[ad_1]

नई दिल्ली:

Elvish Yadav Bail: बिग बॉस ओटीटी 2 विनर एल्विश यादव को जमानत मिल गई है. उन्होंने गुरुग्राम की एक अदालत ने जमानत दे दी है. ऐसे में सोशल मीडिया पर यूट्यूबर के फैंस खुशी से झूम उठे हैं. एल्विश के परिवार के सदस्य ने यह जमानत 50 हजार रुपये के निजी मुचलके पर ली है. एल्विश पर रेव पार्टियों में सांपों का जहर सप्लाई करने के आरोप थे. नोएडा पुलिस ने उन्हें 17 मार्च को गिरफ्तार किया था. दोषी पाए जाने के बाद कोर्ट ने उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था. इतना ही नहीं एल्विश पर एक यूट्यूबर मैक्सटर्न के साथ मारपीट करने के भी आरोप है. एल्विश को जमानत मिलने के बाद कॉमेडियन मुनव्वर फारुकी ने भी अपना रिएक्शन दिया है. 

इस मामले में मिली जमानत
रिपोर्ट्स के मुताबिक, एल्विश को यूट्यूबर मैक्सटर्न के साथ मारपीट के मामले में जमानत मिली है. उनके वकील हिमांशु यादव ने जानकारी देते हुए बताया कि मैक्सटर्न भी कोर्ट में मौजूद था और उन्होंने इस मामले में समझौते का शपथ पत्र दे दिया है. बता दें, मैक्सटर्न के साथ मारपीट का एक वीडियो वायरल हुआ था. इसके बाद मैक्सटर्न ने एल्विश के खिलाफ FIR करवाई थी.  उसने एल्विश के खिलाफ वीडियो जारी कर जान से मारने की कोशिश का आरोप भी लगाया था.

मुनव्वर फारुकी ने जताई खुशी
मुनव्वर फारुकी ने एल्विश यादव को जमानत मिलने पर खुशी जाहिर की है. कॉमेडियन से जब एक पत्रकार ने पूछा कि एल्विश को जमानत मिलने पर वह कैसा महसूस करते हैं, तो फारुकी ने कहा, “मुझे पता है कि यह कैसा लगता है. अच्छी खबर है, एल्विश के लिए मैं खुश हूं.”

जैसा कि उन्होंने कहा, मुनव्वर गिरफ्तारी और अदालती मामलों के लिए कोई अजनबी नहीं है। वह एक महीने से अधिक समय के बाद 2021 में इंदौर सेंट्रल जेल से बाहर आए जब सुप्रीम कोर्ट ने कथित तौर पर धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के एक मामले में उन्हें जमानत दे दी।

नोएडा कोर्ट से शुक्रवार को मिली थी जमानत
इसके अलावा एल्विश यादव को नोएडा कोर्ट से भी सांपों के जहर की तस्करी मामले में जमानत मिल गई है. शुक्रवार को कोर्ट ने एल्विश को बेल दे दी. हालांकि, एल्विश की जमानत याचिका कई बार टाली जा चुकी थी. हड़ताल के चलते जमानत अर्जी पर तीन बार सुनवाई नहीं हो पाई थी. अब फाइनली एल्विश का परिवार बेटे के जेल से बाहर आने के बाद काफी खुश है.



[ad_2]

Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *