[ad_1]

Fan Pace and Electrical energy Consumption : गर्मी का मौसम आ चुका है. हां, हम मानते हैं कि अभी उतनी गर्मी नहीं है लेकिन यह जरूर कहा जा सकता है कि शुरुआत हो चुकी है. अभी तापमान कम है लेकिन आने वाले समय में तापमान बढ़ेगा. अभी जिस पंखे को आप 2 या 3 नंबर पर चला रहे हैं. आगे आने वाले दिनों में 5 नम्बर पर चलाने लगेंगे. पंखे चलने की वजह से सर्दी के मुकाबले गर्मी में कम बिजली का बिल आता है. अब कुछ लोग बिजली के बिल को कम करने के लिए 5 नंबर पर पंखा न चलाकर 4 नंबर पर पंखा चलाते हैं. क्या सच में स्लो पंखा चलाने से बिजली की खपत कम होती है? आइए इस खबर में इस सवाल का जवाब जानते हैं. 

स्पीड और बिजली का कनेक्शन

दरअसल, पंखे पर कितनी बिजली की खपत हो रही है यह उसकी स्पीड से जुड़ा हुआ तो है, लेकिन यह असल में रेगुलेटर पर निर्भर करता है. किसी रेगुलेटर के बेस पर ही यह कहा जाता है कि पंखे की स्पीड से बिजली की खपत कम या ज्यादा की जा सकती है. दूसरी तरफ अब तो कई टाइप के रेगुलेटर आने लगे हैं. मार्केट में कई ऐसे भी रेगुलेटर हैं, जिनका बिजली की खपत पर कोई असर नहीं होता है और ये पंखे की स्पीड तक ही सीमित रहते हैं. ऐसे में, रेगुलेटर के टाइप पर डिपेंड करता है कि पंखे की स्पीड से बिजली की बचत होगी या नहीं. दरअसल, कई फैन रेगुलेटर वोल्टेज को कम करके पंखे की स्पीड को कंट्रोल करते हैं. वहीं, कुछ बस स्पीड को कम करते हैं, वोल्टेज से उनका कोई लेना-देना नहीं होता.

क्या बिजली की बचत होती है?

जो फैन रेगुलेटर वोल्टेज को कम करके पंखे की स्पीड को कंट्रोल करते हैं, उनसे भी बिजली की बचत नहीं होती है. दरअसल, रेगूलेटर का इस्तेमाल फैन में जाने वाले वोल्टेज को कम करने के लिए किया जाता है. ऐसे में पंखा कम बिजली तो खाता है, लेकिन इससे बिजली की बचत नहीं होती है क्योंकि रेगुलेटर बस एक रेसिस्टर की तरह काम करता है और पंखे में पूरी बिजली जाति है. इससे पंखे की स्पीड को कम रखने कर बिजली की खपत पर कोई असर नहीं पड़ता है.

यह भी पढ़ें – टेक्नोलॉजी में बनाना है फ्यूचर, तो 12वीं के बाद इन कोर्स को चुन सकते हैं… ये रही टॉप कॉलेज की लिस्ट

live reels Information Reels

[ad_2]

Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *