[ad_1]

call forwarding, USSD, telecom companies, call forwarding, dot order on call forwarding- India TV Hindi

Picture Supply : फाइल फोटो
साइबर क्राइम और फ्रॉड को रोकने के लिए दूरसंचार विभाग ने उठाया बड़ा कदम।

USSD Code Smartphone Rule: अगर आप स्मार्टफोन इस्तेमाल करते हैं तो आपके लिए काम की खबर है। स्मार्टफोन को लेकर टेलिकॉम डिपार्टमेंट ने एक बड़ा फैसला लिया है जिसका जिसका सीधा असर स्मार्टफोन्स यूजर्स पर पड़ने वाला है। लगातार तेजी से बढ़ते हुए फ्रॉड और स्कैम के मामले को देखते हुए केंद्र सरकार की दूर संचार विभाग ने 15 अप्रैल से USSD बेस्ड कॉल फॉरवर्डिंग की सुविधा को बंद (USSD based mostly name forwarding facility) करने का फैसला लिया है। 

15 अप्रैल के बाद मोबाइल यूजर्स अपने फोन में कॉल फारवर्डिंग सुविधा (Name Ahead) का उपयोग नहीं कर पाएंगे। हालांकि DOT की तरफ से यह भी कहा गया है कि कॉल फॉरवर्डिंग की सुविधा को वैकल्पिक तौर पर बाद में एक्टिवेट किया जा सकता है। फिलहाल अभी यह सुविधा 15 तारीख के बाद बंद कर दी जाएगी। दूरसंचार विभाग की तरफ से इस संबंध में सभी टेलिकॉम कंपनियों को निर्देश भेज दिए गए हैं।  

आपको बता दें कि दूर संचार विभाग ने मोबाइल के जरिए होने वाले फ्रॉड और स्कैम के मामले में रोक लगाने के लिए यह फैसला लिया है। इसके साथ ही सरकार ने टेलिकॉम कंपनियों को कॉल फॉरवर्डिंग के लिए एक अलग व्यवस्था करने के लिए कहा है। 

क्या है USSD Primarily based सर्विस

आपको बता दें कि USSD Primarily based सर्विस का इस्तेमाल करने के लिए स्मार्टफोन यूजर्स अपने फोन की स्क्रीन में एक खास तरह का सीक्रेट कोड डायल करते हैं। सामान्य तौर पर यूएसएसडी बेस्ड सर्विस के जरिए लोग आईएमईआई नंबर जानने, मोबाइल का बैलेंस जानने जैसी कई दूसरी जानकारी लेते हैं। USSD बेस्ड सर्विस में ही कॉल फॉरवर्डिंग की भी सुविधा मिलती है। USSD Primarily based सर्विस में जानकारी लेने के लिए यूजर्स को एक खास कोड डायल करना होता है। अब दूरसंचार विभाग ने इस सर्विस में मिलने वाली कॉल फॉरवर्डिंग सर्विस को बंद करने का फैसला लिया है। 

DOT ने कही ये बड़ी बात

आपको बता दें कि इस संबंध में DOT ने 28 मार्च को जारी एक आदेश में कहा कि हमारे संज्ञान में यह आया है कि USSD बेस्ड कॉल फॉरवर्डिंग सुविधा में का उपयोग कई तरह के अनुचित कार्यों के लिए किया जा रहा है। इसको जानने के बाद यह फैसला लिया गया है कि 15 अप्रैल के बाद इसे बंद कर दिया जाए। डॉट ने आदेश में कहा कि जिन लोगों ने कॉल फॉरवर्डिंग की सुविधा को एक्टिवेट कर रखा है उन्हें एक दूसरा विकल्प दिया जा सकता है। 

यह भी पढ़ें- Airtel ने छुड़ाए छक्के, 10 रुपये के अंतर में मिलेगी 60 दिन की वैलिडिटी और 90GB डेटा



[ad_2]

Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *