सैमसंग के स्मार्टफोन का इस्तेमाल करने वाले करोड़ों लोगों के लिए सरकार की ओर से एक अलर्ट आया है. सरकार ने भारत में सैमसंग के स्मार्टफोन का इस्तेमाल कर रहे यूजर्स के एक हिस्से के लिए यह अलर्ट जारी किया है. ऐसे यूजर्स से कहा गया है कि वे फटाफट अपने स्मार्टफोन को अपडेट कर लें.

ऐसे यूजर्स के लिए खास अलर्ट

कम्प्यूटर इमरजेंसी रिपॉन्स टीम ऑफ इंडिया यानी सीईआरटी-इन ने सिक्योरिटी रिस्क का हवाला देते हुए सैमसंग यूजर्स को स्मार्टफोन अपडेट करने के लिए कहा है. यह अलर्ट सैमसंग स्मार्टफोन के उन यूजर्स के लिए है, जिनका फोन अभी एंड्रॉयड 11, 12, 13 या 14 वर्जन पर चल रहा है. एजेंसी का कहना है कि एंड्रॉयड 11, 12, 13 ,14 पर चल रहे सैमसंग के फोन में कुछ दिक्कतें हैं, जिनके चलते अटैकर आपको बिना पता चले आपके फोन में सेंध लगा सकता है.

हल्के में न लें सरकारी वार्निंग

सीईआरटी-इन की ओर से जारी अलर्ट हाई-रिस्क वार्निंग कैटेगरी का है. इसका मतलब हुआ कि अगर आप भी एंड्रॉयड के 11 से 14 तक के वर्जन पर सैमसंग के स्मार्टफोन को चला रहे हैं, तो आपको इस वार्निंग को भी बिलकुल भी हल्के में नहीं लेना चाहिए. ऐसे सभी यूजर्स को सरकारी अलर्ट पर तत्काल एक्शन लेते हुए अपने-अपने स्मार्टफोन को अपडेट करना चाहिए. वर्ना आपके स्मार्टफोन से संवेदनशील जानकारियां चोरी हो सकती हैं.

अटैकर कर सकते हैं ये काम

वार्निंग के अनुसार, संबंधित एंड्रॉयड वर्जन वाले स्मार्टफोन में जो खामियां पाई गई हैं, उनके चलते अटैकर सिक्योरिटी रिस्ट्रिक्शन को बायपास कर सकता है और सेंसिटिव जानकारियां उड़ा सकता है. साथ ही अटैकर टारगेटेड सिस्टम पर आर्बिटररी कोड एक्सीक्यूट कर सकता है. इसके चलते नॉक्स फीचर के एक्सेस कंट्रोल, फेसियल रिकॉग्निशन सॉफ्टवेयर, एआर इमोजी ऐप में अथॉराइजेशन इश्यू, मेमोरी करप्शन समेत कई गंभीर दिक्कतें आ सकती हैं.

इन डिवाइसेज पर है रिस्क

सीईआरटी-इन के अनुसार, अगर अटैकर किसी डिवाइस को टारगेट करता है तो वह सिम पिन एक्सेस कर सकता है, ब्रॉडकास्ट भेज सकता है, एआर ईमोजी के सैंडबॉक्स डेटा को पढ़ सकता है, सिस्टम के टाइम को बदलकर नॉक्स गार्ड लॉक को बायपास कर सकता है, आर्बिटररी फाइल को एक्सेस कर सकता है. इस जोखिम से प्रभावित होने वाले स्मार्टफोन में गैलेक्सी एस23 सीरिज, गैलेक्सी जेड फ्लिप5, गैलेक्सी जेड फोल्ड5 आदि प्रमुख हैं.

ये भी पढ़ें: आरबीआई के बाद अब एडीबी ने भी बढ़ाया भारत की ग्रोथ का अनुमान, इतनी रह सकती है वृद्धि दर



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *