महाराष्ट्र में बीजेपी के झूठ का पर्दाफाश सरकार के ही विभाग ने किया है। बीजेपी मंत्री ने दावा किया था कि राज्य में लव जेहाद के एक लाख मामले हैं, लेकिन उनके ही विभाग ने इसे गलत बताया है।

महाराष्ट्र के मंत्री मंगल प्रसाद लोधा, जिन्होंने दावा किया था कि महाराष्ट्र में लव जेहाद के एक लाख मामले हैं
user

Engagement: 0

महाराष्ट्र बीते कई सप्ताह से भगवाधारी भीड़ हिंदू सकल समाज के झंडे तले पूरे राज्य में रैलियां कर रहे हैं। इनकी मांग है कि राज्य में लव जेहाद के खिलाफ सख्त कानून बनाया जाए। इसी क्रम में ही हाल ही में महाराष्ट्र के महिला और बाल विकास मत्री मंगल प्रसाद लोधा ने विधानसभा में बताया था कि महाराष्ट्र में ऐसे एक लाख केस हैं जिनमें मुस्लिम लड़कों ने हिंदू लड़कियों को वरगला कर उनसे शादी की है। उनका कहना था कि मुस्लिम लड़कों ने भेष (नाम) बदलकर या झूठे वादे कर हिंदू लड़कियों को बहकाया है।

लेकिन लोधा के इस झूठ की पोल खुल गई है। समाजवादी पार्टी विधायक रियाज शेख ने जब इस बारे में महिला और बाल विकास आयोग से जानकारी मांगी तो उन्हें जो जवाब मिला काफी चौंकाने वाला था। इस आयोग के चेयरमैन मंगल प्रसाद लोधा हैं और इसी आयोग के अधीन ही एक कमेटी बनाई गई थी जिसका काम महाराष्ट्र में लव जेहाद के मामलों की जांच करना था। रिजाय शेख को आयोग ने जो जवाब दिया है उसके मुताबिक राज्य में लव जेहाद का एक भी मामला नहीं है यानी जीरो मामले हैं। जवाब में लव जेहाद के मामलों की संख्या निरांक (मराठी में शून्य के लिए प्रयुक्त शब्द) बताई गई है। नेशनल हेरल्ड के पास रियाज शेख के पत्र और उन्हें मिले जवाब की प्रति है।

महाराष्ट्र: बीजेपी के झूठ का पर्दाफाश, लव जेहाद के एक लाख मामलों के मंत्री के दावे को उनके ही विभाग ने झुठलाया

सरकारी महकमे से यह जानकारी सामने आने के बाद महाराष्ट्र में एक राजनीतिक तूफान सा खड़ा हो गया है। विधानसभा के कई सदस्यों ने इसे लेकर लोधा के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। विधायकों का कहना है कि विधानसभा में झूठ बोलना विशेषाधिकार हनन का मामला है और रियाज शेख ने इस मामले में लोधा से माफी की मांग की है।

वहीं कांग्रेस विधायक और पूर्व मंत्री असलम शेख ने लोधा के इस्तीफे की मांग की है। उधर एनसीपी प्रवक्ता क्लाइट क्रास्टो ने कहा है कि चूंकि लोधा के अपने ही विभाग ने उनके झूठ का पर्दाफाश किया है कि राज्य में एक लाख तो दूर एक भी केस लव जिहाद का नहीं है। उन्होंने कहा है कि लोधा को महाराष्ट्र के लोगों से माफी मांगनी चाहिए।

पूरे मामले पर बीजेपी लोधा के बचाव में उतर आई है। उसका कहना है कि वे जल्द ही इस मामले में सही समय पर सच्चाई सामने रखेंगे। लेकिन बीजेपी की इस बात के समर्थन में कोई सामने नहीं आ रहा है। इस सब पर फिलहाल लोधा ने चुप्पी साध रखी है।

लोधा मुंबई के एक नामी बिल्डर भी हैं इसीलिए महाराष्ट्र बीजेपी का इस झूठ से आसानी से पीछा नहीं छूटने वाला, खासतौर से तब जब महाविकास अघाड़ी ने अपने हमले तेज कर दिये हैं और लोधा को माफी मांगने तक मामले को ठंडा नहीं छोड़ने की रणनीति बनाई है। लोधा गुवाहाटी हाईकोर्ट के पूर्व चीफ जस्टिस के बेटे हैं और उन्हें पता है कि संवैधानिक संस्थाओं में शपथ लेकर झूठ बोलने का क्या नतीजा होता है।

सांकेतिक फोटो

सांकेतिक फोटो

कर्नाटक में भी टीपू सुल्तान को लेकर बोला बीजेपी ने झूठ

वैसे यह पहला मामला नहीं है जब बीजेपी ने झूठ बोला हो। इसी सप्ताह पार्टी ने 18वीं शताब्दी के मैसूर के शासक टीपू सुल्तान की हत्या करने वालों को लेकर झूठ बोला है। बीजेपी की कोशिश थी कि वह उस जानकारी को झुठला सकें कि टीपू सुल्तान अंग्रेजों से लड़ाई लड़ते हुए शहीद हुए थे और उन्हें मारने में अंग्रेजों की मदद हैदराबाद के निजाम और मराठों ने की थी।

बाद में सामने आया कि जिन उरी गौड़ा और नांजे गौड़ा को बीजेपी टीपू सुल्तान को मारने वाला बता रही है, वे तो टीपू सुल्तान के शासन के समय पैदा भी नहीं हुए थे। लेकिन बीजेपी कर्नाटक में विधानसभा चुनाव से पहले वोकालिगा मतदाताओं को रिझाने के लिए ऐसा झूठ फैला रही थी। बीजेपी ने उरी गौड़ा और नांजे गौड़ा को दर्शाने के लिए जिन तस्वीरों और पेंटिंग्स का इस्तेमाल किया वह बाद में मारुथु पांडियार भाइयों की निकलीं जोकि आज के तमिलनाडु में शिवगंगा के शासक थे और उन्होंने भी अंग्रेजों के खिलाफ युद्ध किया था।

रोचक बात यह है कि इन दोनों भाइयों का टीपू सुल्तान के साथ अंग्रेजों को खिलाफ गठबंधन था। अंग्रेजों से लड़ते हुए ही इन दोनों भाइयों की जान गई थी।

यह सारी जानकारी सामने आने के बाद से बीजेपी ने उन तोरण द्वारों को हटा दिया है जिनमें पांडियार को गौडा के तौर पर दिखाया गया था। कर्नाटक के मंत्री मुनिरत्ना, जोकि एक फिल् प्रोड्यूसर भी हैं, ने हाल ही में ऐलान किया था कि वे गौड़ा भाइयों पर फिल्म बनाएंगे, लेकिन अब वे भी अपने इस ऐलान से मुकर गए हैं। उनके ऐलान पर वोकालिगा गुरु और आदिचुंतानगिरी महासंस्थापना मठ के आचार्य स्वामी  निर्मलानंद स्वामी ने मुनिरत्न के इस झूठ को मानने से इनकार कर दिया था और कहा था कि बीजेपी  ऐतिहालिक तथ्यों को सिर्फ अपने फायदे के लिए तोड़मरोड़ रही है।




Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *