कई तरह की डाइट का नाम आपने सुना होगा जो शरीर को कई तरह से फायदा पहुंचा सकता है। आज हम आपको एक और डाइट के बारे में बात कर रहे है जिसका नाम है स्पेसिफिक कॉर्बोहाइड्रेट डाइट।

कई ऐसी डाइट होती है जिसमें कार्बोहाइड्रेट के सेवन को प्रतिबंधित किया जाता है। कई डाइट में जटिल कार्बोहाइड्रोट के सेवन को मना किया जाता है। जटिल कार्बोहाइड्रेट वजन बढ़ने और शुगर के बढ़ने का भी कारण बन सकता है। लेकिन एक डाइट ऐसी है जिसमें जिसमें कार्बोहाइड्रेट के सेवन की अनुमति होती है। इसे स्पेसिफिक कॉर्बोहाइड्रेट डाइट
कहा जाता है जिसमें कुछ तरह के कार्बोहाइड्रेट को शामिल किया जाता है।

क्या होती है स्पेसिफिक कार्बोहाइड्रेट डाइट

स्पेसिफिक कार्बोहाइड्रेट डाइट (एससीडी) ने इंफ्लामेंट्री बाउल डिजीज और अन्य पाचन रोगों से पीड़ित हजारों लोगों के जीवन को सुधार करने में मदद करता है। इस आहार का उद्देश्य इंफ्लामेंट्री बाउल डिजीज, सीलिएक रोग, डायवर्टीकुलोसिस या डायवर्टीकुलिटिस, सिस्टिक फाइब्रोसिस और क्रोनिक डायरिया से पीड़ित लोगों द्वारा अनुभव किए गए लक्षणों को कम करना है।

स्पेसिफिक कार्बोहाइड्रेट डाइट केवल उन खाद्य पदार्थों की अनुमति देता है जो अनप्रोसेस्ड हैं और अनाज, चीनी और स्टार्च से मुक्त होते है। यह आहार इस सिद्धांत पर आधारित है कि हर किसी का पाचन तंत्र जटिल कार्बोहाइड्रेट और शर्करा को आसानी से पचाने में सक्षम नहीं होता है। स्पेसिफिक कार्बोहाइड्रेट डाइट में केवल सरल, आसानी से पचने योग्य कार्बोहाइड्रेट को शामिल किया जाता है।

इस बारे में ज्यादा जानकारी के लिए हमने बात की डॉ. राजेश्वरी पांडा नें, डॉ. राजेश्वरी पांडा मेडिकवर अस्पताल, नवी मुंबई में पोषण और आहार विज्ञान विभाग की एचओडी है।

यह भी पढ़ें

carbohydrate diet ke fayde
कुछ कार्बोहाइड्रेट खराब गट हेल्थ वाले व्यक्तियों द्वारा नहीं पच पाते है। चित्र- अडोबी स्टॉक

स्पेसिफिक कार्बोहाइड्रेट डाइट कैसे काम करती है?

डॉ. राजेश्वरी पांडा बताती है कि स्पेसिफिक कार्बोहाइड्रेट डाइट इस अवधारणा के इर्द-गिर्द घूमता है कि कुछ कार्बोहाइड्रेट खराब गट हेल्थ वाले व्यक्तियों द्वारा नहीं पच पाते है और अवशोषित नहीं हो पाते। ये नही पच पाने वाले भोजन के कण गट में बने रहते हैं जहां बैक्टीरिया का विकास होता है और उन्हें पोषण देते हैं।

इसके परिणामस्वरूप गट में बैक्टीरिया की अत्यधिक वृद्धि हो जाती है। गट में बैक्टिरिया के अधिक बनने के कारण हानिकारक उपोत्पादों का उत्पादन बढ़ जाता है और पाचन संबंधी लक्षण बढ़ जाते हैं। एससीडी का लक्ष्य इस चक्र को तोड़ना होता है।

स्पेसिफिक कार्बोहाइड्रेट डाइट के दिशानिर्देश

पके फलों और सब्जियों को शुरू में छीलकर अच्छी तरह से पकाना चाहिए।

दस्त कम होने या नियंत्रण में आने तक अधिकांश कच्चे फलों और सब्जियों को डाइट में शामिल नहीं किया जाना चाहिए।

यदि खाद्य पदार्थ लेने पर गैस या दस्त जैसे लक्षण उत्पन्न होते हैं या बिगड़ते हैं, तो इन खाद्य पदार्थों को हटा दिया जाना चाहिए और बाद में फिर से शुरू किया जाना चाहिए।

एससीडी खाद्य पदार्थ जो पहले लक्षण पैदा कर चुके हैं, उन्हें डाइट से हटा देना चाहिए यदि डाइट शुरू करने के एक सप्ताह बाद भी वे लक्षण पैदा करना जारी रहते हैं।

ऐसे खाद्य पदार्थ जिनमें एससीडी खाद्य पदार्थों में पाए जाने वाले कार्बोहाइड्रेट के अलावा अन्य कार्बोहाइड्रेट होते हैं, जैसे फल, शहद और एससीडी दही, सख्त वर्जित हैं।

क्या है स्पेसिफिक कार्बोहाइड्रेट डाइट के फायदे

पाचन संबंधी लक्षणों को खत्म करता है

स्पेसिफिक कार्बोहाइड्रेट डाइट का पालन करने वाले कई व्यक्तियों ने पेट दर्द, सूजन, उल्टी, दस्त और कब्ज सहित पाचन समस्याएं कम हो सकती है। ये सुधार जीवन की गुणवत्ता और समग्र कल्याण को बढ़ा सकते हैं।

good carbs energetic banate hain.
गुड कार्ब्स स्वस्थ पाचन तंत्र और मेटाबोलिज्म को बढ़ावा देता है। चित्र : अडोबी स्टॉक

सूजन कम करना

जटिल कार्बोहाइड्रेट को खत्म करके, स्पेसिफिक कार्बोहाइड्रेट डाइट गट की सूजन को कम करने में मदद कर सकता है, जो पाचन समस्याओं का एक सामान्य कारण है। सूजन में यह कमी गट को ठीक करने में सहायता कर सकती है।

बेहतर पोषक तत्व अवशोषण

स्पेसिफिक कार्बोहाइड्रेट डाइट आसानी से पचने योग्य खाद्य पदार्थों पर जोर देती है, जिससे पोषक तत्वों को बेहतर अवशोषण में मदद मिलती है। ये पोषण तत्वों की कमी को पूरा कर सकते है जो गट हेल्थ के खराब होने के कारण होती है।

ये भी पढ़े- वेट लॉस जर्नी पर हैं और स्ट्रीट फूड एन्जॉय करना है, तो हमारे पास हैं आपके लिए 5 हेल्दी ऑप्शन



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *