यह आहार का वह पैटर्न है जब लोग डेयर उत्पाद और चीनी जैसे रिफाइंड फूड का इस्तेमाल नहीं किया करते थे। जो न केवल वेट को मेंटेन रखता है, बल्कि डायबिटीज से भी बचाता है।

आज कल कीटो डाइट, इंटरमिटेंट फास्टिंग, वीगन डाइट, मेडिटेरियन डाइट और भी कई डाइट है जिसको लोग फॉलो करते है। ज्यादातर लोग वजन घटाने या बढ़ाने के लिए अलग-अलग तरह की डाइट ट्राई करते हैं। इनमें कुछ डाइट ऐसी भी हैं जो वजन कंट्रोल करने के साथ-साथ आपको हार्ट डिजीज और डायबिटीज से भी बचाती हैं। ऐसी ही एक डाइट है पैलियो डाइट (Paleo eating regimen)। आइए जानते हैं क्या है यह डाइट पैटर्न और लोग क्यों करते हैं इसे फाॅलो।


क्या होती है पौलियो डाइट

डॉ. राजेश्वरी पांडा मेडिकवर अस्पताल, नवी मुंबई में पोषण और आहार विज्ञान विभाग की एचओडी है। वे बताती हैं कि पैलियो डाइट हमारे आहार के प्राचीन तरीके पर आधारित है। इसलिए यह कई खाद्य पदार्थों को प्रतिबंधित करता है। जैसे अनाज, दालें, डेयरी और अतिरिक्त चीनी, जो मॉडर्न डाइट में बेहद कॉमन हैं। इस डाइट का सबसे ज्यादा फायदा आपके ब्लड शुगर लेवल और ब्लड के लिपिड स्तर को कंट्रोल करने में दिखाई देता है।

पालेयो डाइट मे क्या आता है? चित्र: शटरस्टॉक

ये डाइट आज के समय की नहीं है, बल्कि बहुत पूराने समय की है। पूराने समय में लोग इस डाइट का पालन करते थे। पैलियो डाइट, पैलियोलिथिक या पुराने पाषाण युग के दौरान रहने वाले मनुष्यों के डाइट पैटर्न का एक आधुनिक रूप है, जो लगभग 2.5 मिलियन वर्ष पहले था। पुरापाषाण युग के दौरान, मनुष्य जो आहार लेते थे उनमें जड़ वाली सब्जियां, सीड्स, नट्स, प्लांट्स और कुछ जंगली एवं समुद्री चीजें शामिल होती थीं।

चलिए जानते हैं क्या हैं पैलियो डाइट के फायदे (Paleo eating regimen well being advantages)

रक्त शर्करा के स्तर को नियंत्रित करता है

पैलियो डाइट उन खाद्य पदार्थों को प्रतिबंधित करता है जो रक्त शर्करा पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं, जैसे अल्ट्रा-प्रोसेस्ड स्नैक खाद्य पदार्थ और शर्करा युक्त पेय पदार्थ। जो लोग हाई ब्लड प्रेशर से पीड़ित है और पैलियो डाइट को अपनाते है उन्हे रक्त शर्करा के स्तर में कमी महसूस होती हुई नजर आती है।

यह भी पढ़ें

ये नमकीन राम लड्डू हैं उत्तर भारत का पसंदीदा स्नैक्स, जानिए ये कैसे बनते हैं और क्या हैं इनके फायदे

वजन घटाने में मददगार

लोग अक्सर फैट लॉस के लिए पैलियो डाइट को आजमाते हैं। इस डाइट में शरीर के हेल्दी वजन को बनाए रखने के लिए सभी खाद्य पदार्थ होते है, जैसे सब्जियां, बीन्स और मेवे। पैलियो डाइट का पालन करने वाले लोग भोजन के बाद अधिक संतुष्ट महसूस कर सकते हैं, जो अधिक खाने से आपको बचा सकता है और वजन घटाने को प्रोत्साहित कर सकता है।

ऐसा इसलिए है क्योंकि पैलियो डाइट में फाइबर और प्रोटीन से भरपूर खाद्य पदार्थ शामिल होते हैं, ये दो पोषक तत्व हैं जो खाने के बाद आपका पेट भरा हुआ महसूस करने में मदद करते हैं।

हृदय रोग के जोखिम को कम करने में मददगार

उच्च रक्तचाप और एलडीएल कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स जैसे ब्लड लिपिड स्तर होने से हार्ट की समस्या होने का खतरा विकसित होने की संभावना बढ़ जाती है। कुछ अध्ययनों में पाया गया है कि जो लोग पैलियो डाइट का पालन करते हैं, वे ट्राइग्लिसराइड और ब्लड प्रेशर के स्तर जैसी हार्ट की बिमारियों की समस्या से निपटने में ज्यादा सफल रहते है।

सूजन कम करता है

पैलियो डाइट शरीर में सूजन को कम करने में मदद कर सकता है। प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थों, चीनी और रिफाइंड अनाज से परहेज करने से, जो कई बार लोगों में सूजन का कारण बन सकते है, व्यक्तियों को सूजन से संबंधित परेशानियों को कम करने में मददगार हो सकते है।


Vegan diet ke fayde jaanein
पैलियो डाइट उन खाद्य पदार्थों को प्रतिबंधित करता है जो रक्त शर्करा पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकते हैं। चित्र : एडॉबीस्टॉक

जंक के सेवन को कम करने में मददगार

जब आप पैलियो डाइट पर होते हैं तो जंक फूड को आप एक साइज के बैग में डाल देते है, और इसका मतलब यह है कि आप अपना पैसा केवल उस भोजन पर खर्च कर रहे हैं जो आपके लिए स्वस्थ है, न कि आपके लिए खराब है। यह आपके भोजन बजट के लिए भी बहुत अच्छा है। क्योंकि जितना पैसा आप जंक फूड खरीदने में खर्च करते है उतने पैसे में आप आराम से ये अच्छा और स्वस्थ भोजन से आपनी सेहत बना सकते है।

ये भी पढ़े- जैम, जेली और मेयोनीज कर रहे हैं आपके बच्चों को बीमार, एक आहार विशेषज्ञ बता रहे हैं कैसे



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *