आजकल बाजार में ज्यादातर चीजों में मिलावट की जा रही है। बाजार में बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए मिलावटी और नकली उत्पादों की सप्लाई भी धड़ल्ले से जारी है। इनमें सब्जियां, मसाले और चावल ही नहीं, बल्कि दूध भी शामिल। सिर्फ इतना ही नहीं दूध वह उत्पाद है जिसमें सबसे ज्यादा और अलग-अलग प्रकार की मिलावट की जाती है। अपने और अपने परिवार के स्वास्थ्य के लिए सभी की यह जिम्मेदारी है कि वह किसी भी उत्पाद को खरीदने से पहले उसकी शुद्धता की जांच कर लें। यहां जानिए दूध की प्योरिटी चेक (how to check purity of milk) करने के कुछ टिप्स।


दूध का सेवन बच्चों से लेकर बुजुर्ग सभी करते हैं, क्योंकि यह बेहद पौष्टिक होता है, शरीर के लिए आवश्यक भी। ऐसे में यदि आप मिलावटी दूध का सेवन कर रही हैं, तो सेहत पर इसका नकारात्मक असर देखने को मिल सकता है। इसलिए दूध की शुद्धता का जांच करना बेहद महत्वपूर्ण है। अब सवाल यह उठता है कि आखिर आप दूध की शुद्धता को कैसे मापेंगी?

दूध की शुद्धता को लेकर हेल्थ शॉट्स ने न्यूट्रीफाई बाई पूनम डाइट एंड वेलनेस क्लिनिक एंड एकेडमी की डायरेक्टर, डॉक्टर पूनम दुनेजा से बात की। न्यूट्रीशनिस्ट ने इस विषय पर कुछ जरूरी बातें बताइ हैं, तो चलिए जानते हैं इस बारे में।

नेशनल मिल्क डे (National Milk Day)

हर साल 26 नवंबर को नेशनल मिल्क डे के तौर पर सेलिब्रेट किया जाता है। 26 नवंबर को भारत में दूध की सबसे प्रचलित कंपनी को स्थापित करने वाले डॉक्टर वर्गीज कुरियन का जन्मदिन होता है। डॉक्टर वर्गीज को “फादर ऑफ़ व्हाइट रिवॉल्यूशन इन इंडिया” के नाम से भी जाना जाता है। इस दिन को मनाने का मुख्य मकसद दूध की गुणवत्ता को सेलिब्रेट करना और लोगों को अधिक से अधिक दूध पीने के लिए प्रोत्साहित करना है।


जिन्हें डेयरी से एलर्जी नहीं हैं, उनके लिए तो दूध कई तरह से फायदा पहुंचाता है। चित्र : अडोबी स्टॉक

जानें कैसे जांचनी है मिल्क की शुद्धता

1 मोटी मलाई का मतलब शुद्धता है?

यदि दूध को उबालने के बाद उस पर मलाई जम जाती है, तो यह दर्शाता है कि आपकी दूध में पानी की मिलावट नहीं है। हालांकि, शुद्धता की जांच करने का यह सही तरीका नहीं है, आप केवल इस तरह से दूध में पानी के मिलावट का अंदाजा लगा सकती हैं।

यह भी पढ़ें : गाजर के सीजन में इस बार करें कुछ इनोवेटिव, बच्चों के लिए बनाएं ‘कैरेट चीज़ टोस्ट’

2 दूध में पानी की मात्रा जांचने के लिए क्या करें?

दूध में पानी की मिलावट सेहत को हानि नहीं पहुंचाती, परंतु यह दूध के पोषक तत्वों की गुणवत्ता को प्रभावित कर सकता है। दूध की शुद्वत्ता जांचने के लिए एक बूंद दूध को सतह पर गिराएं। दूध यदि रुका रहता है, या फिर धीरे धीरे बहता है, तो इसमें पानी की मात्रा नहीं है। यदि यह तेजी से बह रहा होता है तो, इसमें पानी की मिलावट है।


3 स्टार्च है या नहीं, यह कैसे जांचें?

कई बार दूध बिक्रेता दूध में स्टार्च मिलाकर बेचते हैं। ऐसे में दूध की गुणवत्ता प्रभावित हो जाती है। इसकी शुद्वत्ता को जांचने के लिए, थोड़े से दूध में नमक या आयोनिन सॉल्यूशन मिलाकर चेक कर सकती हैं। यदि दूध में मिलावट होगी तो दूध का मिश्रण नीला हो जाता है। यदि दूध मिलावटी नहीं है, तो दूध सफेद रंग का ही रहेगा, इसकी रंग में कोई बदलाव नहीं आएगा।

World milk day kyu manaya jaata hai
कम वसा वाले और मलाई रहित दूध से प्रोस्टेट कैंसर होने का खतरा अधिक होता है। चित्र : अडोबी स्टॉक

4 कैसे पता लगाएं दूध में यूरिया की मौजूदगी?

दूध में यूरिया की मिलावट सेहत के लिए बेहद खतरनाक हो सकती है। इसकी मिलावट का जांच करने के लिए थोड़े से दूध में सोयाबीन पाउडर डालें और इसे अच्छे से मिला लें। अब रेड लिटमस पेपर पर इसको डालें, और देखें। यदि लिटमस पेपर ब्लू हो जाता है, तो इसमें यूरिया की मात्रा मौजूद है।

5 डिटर्जेंट और अन्य केमिकल्स की जांच कैसे करें?

10 मिलीलीटर सैंपल लें और इसे 10 मिलीलीटर पानी के साथ मिलाएं। मिश्रण को हिलाएं, यदि सैंपल झाग बनाता है, तो इसमें डिटर्जेंट है। केमिकल युक्त सिंथेटिक मिल्क का स्वाद अलग होता है। जब इसे हाथ पर रगड़ा जाए, तो आपको साबुन जैसी चिकनाई महसूस होती है। वहीं इसे गर्म करने के बाद यह पीले हो जाते हैं।


यह भी पढ़ें : Weight Loss Tips : बैली फैट कम करना है, तो हमेशा याद रखें ये 6 सबसे जरूरी टिप्स



Source link