प्रोटीन एक बॉडी बिल्डिंग ब्लॉक है, जिसकी कमी से मानसिक स्वस्थ्य से लेकर शारीरिक स्वास्थ्य तक हर अंग प्रभावित होने लगता है। पी प्रोटीन का नाम इन दिनों लोगों की जुबान पर है। हांलाकि शरीर में प्रोटीन की कमी को पूरा करने के लिए कई प्रकार के पाउडर और सप्लीमेंटस बाज़ार में उपलब्ध हैं। इन दिनों मैक्रोन्यूट्रिएंट से भरपूर पी प्रोटीन लोगों की पहली पसंद बना हुआ है। मटर से तैयार होने वाले इस प्रोटीन पाउडर से शरीर को आयरन की प्राप्ति होती है, जिससे शरीर को कई फायदे मिलते हैं। जानते हैं प्री प्रोटीन क्या हैं और इसके फायदे भी (Benefits of pea protein)।

पी प्रोटीन पाउडर किसे कहते हैं

पी प्रोटीन पाउडर मटर से तैयार होने वाला पाउडर है, जिसमें प्रोटीन प्रचुर मात्रा में पाया जाता है। मटर में प्रोटीन की उच्च मात्रा पाई जाती है। ये प्लांट बेस्ड प्रोटीन शाकाहारियों के लिए बेहतरीन विकल्प है। इसके सेवन से शरीर को पूर्ण अमीनो एसिड की प्राप्ति होती है। इसमें वैलिन, फेनिलएलनिन, थ्रेओनिन, मेथियोनीन, ट्रिप्टोफैन, आइसोल्यूसीन, लाइसिन, हिस्टिडाइन और ल्यूसीन यानि सभी नौ अमिनो एसिड पाए जाते हैं। अधिकतर लोग वर्कआउट रूटीन के बाद ली जाने वाली हेल्दी मील्स में इसका सेवन करते हैं। इससे हृदय और मसल्स को मज़बूती मिलती है।

नेशनल इंस्टीटयूट ऑफ हेल्थ के अनुसार पी प्रोटीन में नौ आवश्यक अमीनो एसिड पाए जाते हैं, जिनसे मिलकर शरीर बनता है। यह ब्राचंड चेन अमिनो एसिड का मुख्य सोर्स है। इसमें आर्जिनिन पाया जाता है, जो शरीर में रक्त प्रवाह को बनाए रखता है और हृदय स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद साबित होता है। इसके अलावा ल्यूसीन, आइसोल्यूसीन और वैलिन मसल्स ग्रोथ में मददगार साबित होता है।

अधिकतर लोग वर्कआउट रूटीन के बाद ली जाने वाली हेल्दी मील्स में इसका सेवन करते हैं। इससे हृदय और मसल्स को मज़बूती मिलती है। चित्र- अडोबी स्टॉक

जानते हैं पी प्रोटीन पाउडर के फायदे

1. कैलोरी इनटेक होगा कम

नेशनल इंस्टीटयूट ऑफ हेल्थ के अनुसार पी प्रोटीन पाउडर के सेवन बार बार भूख लगने की समस्या हल हो जाती है। इस हाई प्रोटीन डाइट से शरीर में कैलोरी इनटेक खुद ब खुद कम होने लगता है। जो शरीर में वेटलॉस में मददगार साबित होता है। इस प्लांट बेस्ड प्रोटीन से पेट लंबे वक्त तक भरा हुआ महसूस होता है।

2. मसल्स बिल्डिंग में सहायक

मटर में मौजूद अमीनो एसिड मांसपेशियों की मरम्मत और उनके पुनर्निर्माण में मदद करते हैं। देर तक वर्कआउट करने से टिशूज़ टूट जाते हैं। ऐसे में शरीर में उन्हें रिपेश्र करने में और नए टिशूज के निर्माण के लिए पी प्रोटीन का इस्तेमाल आवश्यक है। पी प्रोटीन पाउडर को वर्कआउट से पहले या बाद में कभी भी लिया जा सकता है।

3. हार्ट हेल्थ का रखे ख्याल

एनआईएच के अनुसार जानवरों पर की गई स्टडी से इस बात की जानकारी मिली है कि पी प्रोटीन पाउडर के सेवन से शरीर में कोलेस्ट्रॉल को कम किया जा सकता है। चूहों पर की गई स्टडी के अनुसार पी प्रोटीन पाउडर के सेवन के तीन सप्ताह के बाद चूहों में लो ब्लड प्रेशर लेवल पाया जाता है। साथ ही शरीर में बढ़ने वाले फैटस से भी मुक्ति मिल जाती है।

4. पाचनतंत्र का रखे ख्याल

इस ग्लूटन फ्री पी प्रोटीन के सेवन से पाचनतंत्र को मज़बूती मिलती है। पचाने में आसान इस प्रोटीन पाउडर से पेट संबधी समस्याएं हल होती है और मेटाबॉलिज्म बूस्ट होने लगता है। दिनभर में नियमित मात्रा में इसका सेवन शरीर को ताकत प्रदान करता है।

desi matar kabj mukt rakhta hai
इस ग्लूटन फ्री पी प्रोटीन के सेवन से पाचनतंत्र को मज़बूती मिलती है। चित्र अडोबी स्टॉक

5. हीमोग्लोबिन की कमी पूरा करें

प्रोटीन के सेवन से शरीर में आयरन की कमी पूरी होने लगती है। इस प्लांट बेस्ट प्रोटीन को डाइट में एड करने से एनीमिया से मुक्ति मिल जाती है और शरीर में खून की कमी पूरी होने लगती है। एनआइएच के अनुसा विटामिन सी के साथ मिलाकर पी प्रोटीन का सेवन करने से शरीर में आयरन का एब्जॉर्बशन 67 फीसदी तक बढ़ जाता है।

ये भी पढ़ें- चीन में फैले अज्ञात निमोनिया बैक्टीरिया के बारे में सब कुछ जानना है जरूरी, असामान्य नहीं हो सकता है यह



Source link