सिंपल ब्रेड टोस्ट को हेल्दी और इंटरेस्टिंग बनाने के लिए इनमें ऐड कर सकती हैं शहतूत का जैम, हम बता रहे हैं इसकी आसान सी रेसिपी।

शहतूत को सभी बेहद पसंद करते हैं। इसका खट्टा मीठा स्वाद आपके टेस्ट बड्स को बेहद पसंद होता है। यह बेरी प्रजाति का एक प्रकार है, जिसमें कई महत्वपूर्ण पोषक तत्व पाए जाते हैं। इसका सेवन आपकी सेहत के लिए तमाम रूपों में फायदेमंद हो सकता है। यह इंडिया में लगभग सभी जगहों पर मिल जाते हैं, वहीं आप इसे फ्रेश या फिर फ्रोजन फॉर्म में बाजार से खरीद सकती हैं। हालांकि, इन्हे डाइट में शामिल करने के कई इंटरेस्टिंग तरीके हैं, उन्हीं में से एक है शहतूत का जैम। शहतूत के जैम को तैयार करना बेहद आसान है, इसे बनाने में बहुत कम मेहनत लगती हैं, साथ ही ये झटपट तैयार भी हो जाता है।


हो सकता है बच्चे शहतूत को खाने में नखरे करें, लेकिन जैम के माध्यम से आप उन्हें इसकी पोषक तत्वों की गुणवत्ता प्रदान कर सकती हैं। हालांकि, ऐसे तो ये जैम मार्केट में भी उपलब्ध होते हैं। पर उन्हें बनाने में प्रिजर्वेटिव्स और अन्य केमिकल्स का इस्तेमाल किया जाता है। इसलिए आप इन्हें फ्रेश और सुरक्षित रूप से घर पर तैयार कर सकती हैं (mulberry jam no pectin)। इस इंटरेस्टिंग जैम को डायबिटीज के मरीज भी मॉडरेशन में ले सकते हैं। तो चलिए जानते हैं, शहतूत के जैम की आसान सी रेसिपी।

शहतूत के जैम की रेसिपी (mulberry jam recipe)

शहतूत का जैम बनाने के लिए आपको चाहिए (find out how to make mulberry jam with out sugar)

800 ग्राम फ्रेश और फ्रोजन शहतूत
4 से 5 कप खांड (रिफाइंड शुगर की जगह खांड का इस्तेमाल करें)
1/2 कप ताजे नींबू का रस
1 चुटकी जायफल का पाउडर

एक बार में एक महीने का स्टॉक तैयार करें जब ये खत्म हो जाए तो दोबारा से बना लें। चित्र : एडॉबीस्टॉक

इस तरह तैयार करें

एक पैन को गैस पर चढ़ाएं और इसमें शहतूत, खांड और नींबू का रस डाल दें।
इन्हें मध्यम आंच पर लगभग 15 से 17 मिनट तक अच्छी तरह से पकाना है।
पकाने के दौरान इन्हें बीच बीच में अच्छी तरह से चलाती रहें।
धीरे-धीरे यह जैम की कंसिस्टेंसी में बदल जाएगा और गाढ़ा हो जाएगा।
अब इसे गैस से उतार दें और इसमें जायफल पाउडर डालें फिर अच्छी तरह मिक्स कर लें। उसके बाद ठंडा होने के लिए छोड़ दें।
आपका जैम बनकर तैयार है, इसे ग्लास के जार में पैक कर लें।
इसे रेफ्रिजरेटर में रखें और ब्रेड टोस्ट आदि के साथ इसे एंजॉय करें।

यह भी पढ़ें

इन 5 समस्याओं का समाधान है फर्मेंटेड आंवला, जानिए क्या है फर्मेंटेशन का सही तरीका


नोट: आप इसे 5 से 6 महीने तक स्टोर कर सकती हैं। पर इन्हे बनाना बेहद आसान है, इसलिए एक बार में एक महीने का स्टॉक तैयार करें जब ये खत्म हो जाए तो दोबारा से बना लें।

अब जानें किस तरह खास है ये जैम (mulberry jam advantages)

शहतूत (mulberry) कई महत्वपूर्ण पोषक तत्वों का एक समृद्ध स्रोत है। इसमें डाइटरी फाइबर, कैल्शियम, पोटेशियम, आयोडीन, सोडियम, प्रोटीन, विटामिन सी, विटामिन के, विटामिन ई, विटामिन b1, विटामिन B2, विटामिन B3, विटामिन B6 और फोलेट जैसे महत्वपूर्ण पोषक तत्वों की गुणवत्ता पाई जाती है। इसके अलावा इसमें एंटीऑक्सीडेंट, एंटी इन्फ्लेमेटरी, एंटी डायबिटिक और एंटीपायरेटिक जैसी प्रॉपर्टीज पाई जाती है, जो इसकी गुणवत्ता को और ज्यादा बढ़ा देती है।

Mulberry fruits benefits
कब्ज़ की समस्या से भी देता राहत। चित्र:शटरस्टॉक

1. रेड ब्लड सेल्स के काउंट को बढ़ाएं

शहतूत में भरपूर मात्रा में आयरन मौजूद होता है। आयरन शरीर में रेड ब्लड सेल्स के प्रोडक्शन को बूस्ट कर देते हैं, जिससे कि बॉडी के हर एक भाग तक पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन पहुंचता है और हार्ट हेल्थ बेहतर होता है। इसके अलावा यह मेटाबॉलिज्म को बढ़ावा देती है, जिससे की बॉडी के तमाम फंक्शंस को सही से काम करने में मदद मिलती है।


2. डाइजेशन के लिए फायदेमंद है

इस सुपर फूड में भरपूर मात्रा में डाइटरी फाइबर पाए जाते हैं, जो पाचन प्रक्रिया के लिए बेहद महत्वपूर्ण है। इसके सेवन से बॉवेल मूवमेंट नियमित रहता है और डाइजेशन प्रोसेस भी स्वस्थ रहता है। जिससे कि पाचन संबंधी समस्याएं आपको परेशान नहीं करती। खास कर इसे कब्ज और ब्लोटिंग की समस्या में बेहद कारगर माना जाता है।

यह भी पढ़ें: इन 5 समस्याओं का समाधान है फर्मेंटेड आंवला, जानिए क्या है फर्मेंटेशन का सही तरीका

3. ब्लड शुगर लेवल को सामान्य रखे

शहतूत और इसके पत्ते दोनों ही ब्लड शुगर लेवल को रेगुलेट करने में मदद करते हैं। इनमें मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और फाइबर इन्हें डायबिटीज के मरीजों के लिए खास बनाता है डायबिटीज के मरीज इस जैम को मॉडरेशन में ले सकते हैं परंतु ध्यान रखें इसकी अधिकता आपके लिए हानिकारक हो सकती है।

mulberry and leaves
शहतूत फल और शहतूत की पत्तियां ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करने में मदद कर सकती हैं। चित्र : एडोबी स्टॉक

4. त्वचा एवं बालों की सेहत के लिए भी कारगर है

इस बेरी में विटामिन ए और ई की पर्याप्त मात्रा पाई जाती है। साथ ही साथ ये एंटीऑक्सीड से भरपूर होते हैं, इसका प्रभाव त्वचा एवं बालों की सेहत को फ्री रेडिकल से प्रोटेक्ट करते हुए इससे होने वाले डैमेज को प्रीवेंट करता है। इसके अलावा एंटीऑक्सीडेंट त्वचा पर नजर आने वाले दाग धब्बों को कम करने में भी प्रभावी रूप से कार्य करता है और स्किन ब्लैमिशेज और पिगमेंटेशन को कम कर देता है।

यदि आपकी त्वचा पर बार-बार एक्ने हो जाता है, तो ऐसे में शहतूत इनसे निजात पाने में आपकी मदद कर सकते हैं। यह इन्फ्लेमेशन और ऑयल सेक्रेशन को कम करते हैं। इतना ही नहीं ये स्कैल्प को भी स्टिम्युलेट करते हैं, जिससे कि हेल्दी हेयर ग्रोथ में मदद मिलती है।

5. इम्यूनिटी को बढ़ावा दे

शहतूत में विटामिन सी की पर्याप्त मात्रा पाई जाती है, जो इम्यूनिटी को बूस्ट करने में मदद करती हैं। इसके नियमित सेवन से इम्यून सेल्स मजबूत हो जाते हैं, और शरीर सामान्य प्रकार के संक्रमण तथा बीमारियों से लड़ने के लिए तैयार रहती है।

यह भी पढ़ें: Zero calorie meals : वेट लॉस जर्नी को और भी आसान बना सकते हैं ये ज़ीरो कैलोरी फूड्स, जानिए इनके और भी फायदे



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *