[ad_1]

आजकल ज्यादातर लोग अपने बेली फैट को छिपाने के लिए और स्लिम दिखने के लिए बॉडी शेपर का इस्तेमाल करते हैं। वहीं कई लोग इसे पेट की चर्बी को कम करने के लिए लंबे समय तक लगाए रखते हैं। यह विभिन्न प्रकार के फैब्रिक और अलग अलग प्रकार में उपलब्ध होते हैं। यह स्ट्रेचबल होते हैं जिसके की यह आसानी से बॉडी में फिट हो जाते हैं। परन्तु क्या अपने कभी बेली शेपर के हानिकारक प्रभाव के बारे में जानने की कोशिश की है? यदि नहीं, तो आपको बता दें कि इसका नियमित इस्तेमाल और इसे लंबे समय तक लगाए रखने से समग्र सेहत, खासकर पाचन स्वास्थ्य पर नकारात्मक असर पड़ता है (side effects of shape wear)।

हेल्थ शॉट्स ने इस विषय पर हेल्थ शॉट्स ने इस विषय पर डीपीयू प्राइवेट सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल, पिंपरी, पुणे के कंसलटेंट फिजिशियन प्रसाद कुवालेकर से बात की। चलिए जानते हैं इसपर क्या है उनकी राय।

हो सकती हैं ये 6 समस्याएं (side effects of shape wear)

1. बना रहता है नसों के दबने का खतरा

नियमित रूप से लंबे समय के लिए शेपवियर को पहने रहने से नर्वस संकुचित हो सकती हैं। जब ऐसा होता है, तो आपको शेपर के आसपास के क्षेत्र में सुन्नता या झुनझुनी महसूस होती है। ऐसे में आपको अपने शेपवियर को एडजस्ट करके देखना चाहिए की कही इसकी वजह से कोई नर्व तो नहीं दब रही। यदि फिर भी सुधर न दिखें तो इसे फ़ौरन उतार देना चाहिए। इसके अलावा आप अलग अलग आकार या कट के शेपवियर ट्राई कर सकती हैं, देखें की कौन सा अधिक आरामदायक है वहीं इसे लंबे समय तक पहन कर न रखें।

kyun hota hai back pain
स्ट्रेचिंग किसी भी तरह के दर्द को कम करने के लिए एक बेहतर विकल्प है। चित्र- अडोबी स्टॉक

2. सर्कुलेटरी प्रोब्लम्स

‌यदि आप खराब फिटिंग वाले या बहुत टाइट शेपर पहनती हैं, तो यह ब्लड वेसल्स को संकुचित कर सकते हैं। यह एक खतरनाक समस्या हो सकती है। आपके रक्त के संचार की क्षमता में कमी आने से ब्लड क्लॉट्स बन सकते हैं, खासकर यदि आपको डायबिटीज या हार्ट डिजीज जैसी अंतर्निहित स्थितियां हैं।

इस स्थिति में नजर आ सकते हैं ये लक्षण

हाथ या पैर में सुन्नता और झुनझुनी का एहसास होना
त्वचा का रंग बदल जाता है, जैसे पीला या धब्बेदार दिखना
चक्कर आना, ब्रेन फोग या भ्रम
चलते समय दर्द का एहसास होना

3. हो सकती हैं पाचन संबंधी समस्याएं

यदि आप अपने पेट के चारों ओर लंबे समय तक टाइट-फिटिंग शेपर पहने रहती हैं, तो यह आपके पेट एवं पाचन क्रिया को प्रभावित कर सकता है। टाइट शेपवियर आपके पेट पर तेह प्रेशर बनाते हैं और आपके आंतरिक अंगों के बीच की जगह को कम कर देते हैं। इस स्थिति में आपकी पाचन प्रक्रिया धीमी हो सकती है, परिणामस्वरूप आपको गैस और सूजन जैसी समस्यायों का सामना करना पड़ता है। इतना ही नहीं शेपवियर को पहनने से बार बार पेशाब जाने की स्थिति बनती है क्युकी यह ब्लैडर पर तेज दवाव बनाता है।

digestive health ko kaise banaye rakhein
डाइजेस्टिव सिस्टम को हेल्दी बनाए रखना जरुरी है। चित्र: शटरस्टॉक

खासकर यदि किसी व्यक्ति को एसिड रिफ्लक्स की शिकायत रहती है तो उन्हें शेपवियर को पूरी तरह से अवॉयड करना चाहिए, क्युकी यह आपके अन्नप्रणाली को नुकसान पहुंचा सकते हैं। यदि आप कही बाहर जा रही हैं, तो शेपवियर को पहन कर खाना खाने से बचें क्युकी इसकी वजह से पाचनक्रिया संकुचित रहती है और पूरी तरह से सक्रीय नहीं हो पाती। ऐसी स्थिति में पाचन संबंधी समस्यायों का सामना करना पड़ सकता है।

यह भी पढ़ें :  Yoga to balance hormones : अर्ली मेनोपॉज का जोखिम बढ़ा देता है हॉर्मोनल असंतुलन, इन 4 योगासनों की मदद से करें इन्हें संतुलित

4. इंटिमेट हेल्थ पर पड़ता है नकारात्मक असर

कई ऐसे शेपवियर होते हैं जो पैंट के शेप में आते हैं ऐसे में यह न केवल पेट के हिस्से में कसाव का कारण बनते हैं बल्कि योनि को भी लॉक कर देते हैं। इस स्थिति में हवा योनि से आरपार नहीं हो पाती जिसकी वजह से यीस्ट इन्फेक्शन का खतरा बढ़ जाता है। यीस्ट संक्रमण योनि या आसपास की त्वचा पर विकसित हो सकते हैं।

वहीं दूसरी ओर शेपर को पहनने के बाद बार बार पेशाब जाने की क्रेविंग्स होती है और कई बार हम इसे अवॉयड करते हैं क्युकी हर जगह आप कुछ कुछ देर पर टॉयलेट नहीं जा सकते पेशाब रोकने से यूटीआई का खतरा बढ़ जाता है। हमेशा जरूरत पड़ने बाथरूम जाएं और अपने मूत्राशय को पूरी तरह से खाली करें

यीस्ट संक्रमण और यूटीआई के जोखिम को अवॉयड करने के लिए सबसे जरुरी है की आप शेपर को पहनने का एक उचित समय निर्धारित करें, इसे लंबे समय तक पहनने से बचें। कॉटन क्रॉच पैनल वाले शेपवियर चुनें, वहीं शेपवियर खरीदते वक़्त देखें की आप इन्हे टॉयलेट जाने के लिए आसानी से हटा सकती हैं या नहीं।

side effects of shapewear
बढ़ जाती है वेजाइना संबंधी परेशानियां। चित्र : एडॉबीस्टॉक

5. हो सकती है त्वचा संबंधी समस्याएं

शेपवियर आपकी त्वचा के ठीक ऊपर होते हैं, साथ ही इसे पहने से अधिक पसीना आता है, इसलिए त्वचा संबंधी समस्यायों का खतरा बना रहता है। वहीं इसे लम्बे समय तक पहने रहने से जलन का सामना करना पड़ सकता है।

यदि आपके शेपवियर से आपकी त्वचा में किसी प्रकार का संक्रमण या खुजली की समस्या हो गयी है तो इसे पहनना फ़ौरन बंद कर दें। इसे दोबारा पहनना शुरू करने से पहले अलग ब्रांड या आकार के शेपवियर की शॉपिंग करना बुरा आईडिया नहीं है।

6. ब्लैडर पर पड़ता है दबाव

कॉर्सेट या किसी प्रकार के शेपवियर पहनने से बाथरूम जाते समय असुविधा होती है और ज्यादातर महिलाएं शेपवियर पहनते समय इससे बचती हैं। इससे मूत्राशय पर दबाव बढ़ जाता है जिससे संक्रमण और लीकेज का खतरा बना रहता है।

यह भी पढ़ें : Weight loss : नींबू का रस या एप्पल साइडर विनेगर, वेट लॉस के लिए जानिए दोनों में से क्या है बेहतर विकल्प

[ad_2]

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *