[ad_1]

क्या आप अपने बच्चे की लंबाई को बढ़ाने के तरीके देख रहें है?तो अब आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि योगा आपकी मदद कर सकता है।

योग को ग्रोथ हार्मोन को उत्तेजित करने के लिए पहचाना जाता है, और फिटनेस विशेषज्ञ इस बात पर जोर देते हैं कि विशिष्ट योग आसन को अपनी दिनचर्या में शामिल करने से इन हार्मोनों को बढ़ाने में मदद मिलती है, जिससे आपकी लंबाई बढ़ सकती है। योग का नियमित अभ्यास मन, शरीर और आत्मा के लिए अनगिनत लाभ प्रदान करता है, क्योंकि इसकी शारीरिक मुद्राएं, नियंत्रित श्वास के साथ मिलकर लचीलापन, शक्ति, सहनशक्ति और संतुलन बढ़ाती हैं।


आसनों के अलावा एक और महत्वपूर्ण कारक जो ग्रोथ हार्मोन को उत्तेजित करता है वह प्राणायाम या गहरी सांस लेने का व्यायाम है। प्राणायाम शरीर को आराम देने का एक प्रभावी तरीका है, इन योग आसनों का अभ्यास करने से आपको लंबाई बढ़ाने में मदद मिलती है।

चलिए जानते है बच्चों की लंबाई बढ़ाने के लिए कौन से योगासन करें

धनुरासन

धनुरासन, जिसे धनुष मुद्रा के रूप में भी जाना जाता है, जो रीढ़ की हड्डी के समग्र स्वास्थ्य और लचीलेपन के लिए फायदेमंद हो सकता है। यह अच्छी मुद्रा वाला योगदान है, जिससे व्यक्ति लंबा और अधिक आत्मविश्वासी दिखाई दे सकता है।

dhanurasan kaise karein
धनुष मुद्रा के रूप में भी जाना जाने वाला ये आसन, जो रीढ़ की हड्डी के समग्र स्वास्थ्य के लिए जरूरी है। चित्र- अडोबी स्टॉक

ऐसे करें धनुरासन

अपने पेट के बल जमीन पर लेटें, अपने पैरों को कूल्हे के बराबर करके अलग रखें और अपने हाथों को साइड में रखें।

अपने घुटनों को मोड़ें और अपनी एड़ियों को जितना हो सके अपने कुल्हों के करीब लाएं।

यह भी पढ़ें

मेल हॉर्मोन की अधिकता बढ़ा देती है चेहरे पर अनचाहे बाल, यहां हैं इनसे छुटकारा पाने के 5 घरेलू उपाय

हाथों को पीछे ले जाएं और अपनी एड़ियों को पकड़ लें। यदि आप अपनी एड़ियों तक नहीं पहुंच सकते हैं, तो आप पकड़ने के लिए अपनी एड़ियों के चारों ओर लपेटे गए योगा स्ट्रैप का उपयोग कर सकते हैं।


गहरी सांस लें और अपने पैरों को पीछे और ऊपर लाते हुए अपनी छाती और जांघों को एक साथ जमीन से ऊपर उठाएं।

आपका वजन मुख्य रूप से आपके पेट और पैल्विक पर होना चाहिए। अपनी आंखे आगे और थोड़ा ऊपर की ओर रखें।

गहरी सांस लेते हुए 15-30 सेकंड या जब तक आरामदायक हो, इस मुद्रा में बने रहें।

धीरे-धीरे सांस छोड़ते हुए अपनी छाती और जांघों को जमीन पर लेकर जाएं।

चक्रासन

चक्रासन, जिसे व्हील पोज़ के रूप में भी जाना जाता है, चक्रासन समग्र स्वास्थ्य के लिए विभिन्न लाभ प्रदान करता है, जिसमें पीठ, कंधों और बाहों को मजबूत करना और रीढ़ की हड्डी का लचीलापन बढ़ाना शामिल है।

ऐसे करें चक्रासन

अपने घुटनों को मोड़कर और अपने पैरों को कूल्हे की चौड़ाई से अलग रखते हुए, फर्श पर सीधे अपनी पीठ के बल लेट जाएं। आपकी भुजाएं आपके शरीर के साथ होनी चाहिए, आपकी हथेलियां नीचे की ओर हों।

अपनी कोहनियों को मोड़ें और अपने हाथों को अपने सिर के पास फर्श पर रखें, अपनी उंगलियों को अपने कंधों की ओर रखें। आपकी कोहनियां ऊपर की ओर होनी चाहिए।


अपनी हथेलियों को फर्श पर मजबूती से दबाएं। सांस लेते हुए, अपने हाथों और पैरों से धक्का दें, अपने कूल्हों और पीठ के निचले हिस्से को ज़मीन से ऊपर उठाएं। अपनी जांघों को एक दूसरे के बराबर रखें।

जैसे ही आप अपनी छाती को ऊपर की ओर उठाते ही आप बैकबेंड में आते हुए अपने हाथों और पैरों पर दबाव डालना जारी रखें।

कुछ देर के लिए इसी मुद्रा में बने रहें, गहरी और समान रूप से सांस लें।

मुद्रा से वापस आने के लिए, अपनी ठुड्डी को छाती की ओर झुकाएं और धीरे-धीरे अपनी पीठ और कूल्हों को नियंत्रण के साथ जमीन पर टिकाएं।

पादहस्तासन

पादहस्तासन, जिसे स्टैंडिंग फॉरवर्ड बेंड के रूप में भी जाना जाता है, इसममें खड़े होने की स्थिति से आगे झुकना और हाथों को पैरों तक पहुंचाना होता है।

Forward bend se muscles stretch ho jaati hain
इससे टांगे पूरी तरह से स्ट्रेच होने लगती है, जिससे शरीरिक अंगों में मौजूद स्टिफनेस दूर होकर लचीलापन बढ़ने लगता है। चित्र :अडोबी स्टॉक

ऐसे करें पादहस्तासन

अपने पैरों को कूल्हे-चौड़ाई से अलग करके ताड़ासन में खड़े हों। अपनी रीढ़ सीधी रखें, और हाथों को अपने शरीर के बगल में रखें।


गहरी सांस लेते हुए अपनी भुजाएं ऊपर उठाएं । अपनी भुजाओं को एक-दूसरे के सामने रखें।

अपनी रीढ़ को सीधा रखते हुए, अपने कूल्हों से आगे की ओर झुकते हुए धीरे-धीरे सांस छोड़ें। आगे की ओर मोड़ते समय अपनी पीठ को सीधा रखें।

जब तक आपका शरीर फर्श के समान न हो जाए या जहां तक आपका लचीलापन है, तब तक आगे झुकें।

अपनी गर्दन को आराम दें और अपने सिर ढीला छोड़ दें। अपने पैरों के पिछले हिस्से और रीढ़ की हड्डी में हल्का खिंचाव बनाए रखें।

ये भी पढ़े- 40 के बाद वेटलिफ्टिंग कर रही हैं, तो चोटों के जोखिम से बचने के लिए याद रखें ये जरूरी बातें

[ad_2]

Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *