पीरियड्स डिले पिल्स बिल्कुल भी नॉर्मल नहीं है, हम, आप या किसी भी फीमेल को ऐसा नहीं करना चाहिए। क्योंकि मेंस्ट्रूअल साइकिल एक नेचुरल प्रोसेस है, यदि आप इसमें खलल डाल रही हैं, तो जाहिर सी बात है इसका आपकी सेहत पर बेहद नकारात्मक असर देखने को मिल सकता है।

आजकल सभी केमिस्ट शॉप पर पीरियड्स को डिले करने के लिए आसानी से मेडिसिंस मिल जाती हैं। वहीं अब तरह-तरह के अलग-अलग फार्मेसी ब्रांड के पिल्स आने लगे हैं। दिन प्रतिदिन इनकी मांग भी बढ़ती जा रही है, महिलाओं ने छोटी-छोटी बातों पर इन पिल्स के माध्यम से अपने पीरियड्स को डिले करना शुरू कर दिया है। यह बिल्कुल भी नॉर्मल नहीं है, हम, आप या किसी भी फीमेल को ऐसा नहीं करना चाहिए। क्योंकि मेंस्ट्रूअल साइकिल एक नेचुरल प्रोसेस है, यदि आप इसमें खलल डाल रही हैं, तो जाहिर सी बात है इसका आपकी सेहत पर बेहद नकारात्मक असर देखने को मिल सकता है।

हेल्थ शॉट्स ने पीरियड को बार बार डिले करने के प्रभाव जानने के लिए प्राइमस सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल दिल्ली की गायनेकोलॉजी डिपार्मेंट की कंसल्टेंट डॉक्टर रश्मि वालिया से बात की। डॉक्टर ने सेहत पर पीरियड्स डिले करने के कुछ नकारात्मक प्रभाव बताए हैं। तो चलिए जानते है, आखिर ये किस तरह आपकी बॉडी को प्रभावित कर सकते हैं।

यहां जानें बार-बार पीरियड डिले करने से नजर आने वाले साइड इफेक्ट (unintended effects of intervals delay tablets)

1. मेंस्ट्रूअल साइकिल में बदलाव आना

बार-बार पीरियड्स डिले करने वाले पिल्स लेने से आपकी पीरियड्स ब्लीडिंग इरेगुलर हो जाती है। वहीं कई बार केवल स्पॉटिंग देखने को मिलती है। इस प्रकार यह अस्थाई रूप से आपके मेंस्ट्रूअल साइकिल को बदल सकती है, जिसकी वजह से अन्य शारीरिक लक्षण नजर आ सकते हैं। इतना ही नहीं इन पिल्स को लेने के बाद हार्मोंस असंतुलित हो जाते हैं, जिसकी वजह से कई बार लंबे समय तक पीरियड्स नहीं आते या पीरियड्स में अत्यधिक ब्लीडिंग हो सकती है।

हो सकता है पीरियड्स में अधिक दर्द का अनुभव। चित्र : शटरस्टॉक

2. लिबिडो की कमी देखने को मिल सकती है

पीरियड्स डिले पिल्स को अधिक फ्रिक्वेंटली लेने से रिप्रोडक्टिव और सेक्सुअल हार्मोन नकारात्मक रूप से प्रभावित हो सकते हैं। जिसकी वजह से महिलाओं को लिबिडो की कमी महसूस होती है। वहीं वेजाइनल ड्राइनेस की स्थिति उत्पन्न होना भी सामान्य है।

यह भी पढ़ें

Prolapsed uterus : पेनफुल सेक्स और कब्ज के कारण भी गर्भाशय योनि से बाहर निकल सकते हैं

यह भी पढ़ें: क्या रेगुलर सेक्स मेनोपॉज को डिले कर सकता है? जानिए इस बारे में क्या कहते हैं शोध

3. एक्ने की समस्या

पीरियड्स स्किप करने के लिए पिल्स लेने से हार्मोन में बदलाव आते हैं। वहीं आप इन्हें अधिक फ्रिक्वेंटली लेती हैं, तो हार्मोंस को बैलेंस होने का समय नहीं मिलता, जिसकी वजह से महिलाओं में हार्मोनल एक्ने देखने को मिलता है। हार्मोनल एक्ने आमतौर पर चेहरे के निचले हिस्से को प्रभावित करते हैं, साथ ही ये गर्दन, कंधे और बाजू के ऊपर के हिस्से में भी नजर आ सकते हैं।

4. ब्रेस्ट में कसाव महसूस होना

यदि आप बार-बार पीरियड्स डिले पल्स लेती हैं, तो इस स्थिति में आपके ब्रेस्ट में भी बदलाव देखने को मिल सकता है। महिलाओं को ब्रेस्ट पेन, कसाव और स्वेलिंग का अनुभव होता है। इसके अलावा कई बार ब्रेस्ट में डिस्कॉमफर्ट महसूस होता है, जिसकी वजह से परेशानी बहुत ज्यादा बढ़ जाती है।

period cramp ke kya kaaran hote hain
ऐसे में महिला को साधारण दिनों की तुलना में ज्यादा दर्द हो सकता है। चित्र : शटरस्टॉक

5. मूड स्विंग्स

आमतौर पर महिलाओं को पीरियड्स में मूड स्विंग्स होता है। ऐसे में यदि आप पीरियड्स डिले करने वाले पिल्स ले रही हैं, तो इसके साइड इफेक्ट के तौर पर भी मूड स्विंग्स और लो मूड का अनुभव हो सकता है। ऐसे में महिलाओं को अपने इमोशंस पर नियंत्रण नहीं रहता और वे कभी भी रोना शुरू कर देती हैं। वहीं उन्हें बेहद डिप्रेसिंग महसूस होता है।

6. ब्लड क्लॉट्स

पीरियड्स डिले पिल लेने से एक पर चैलेंजिंग समस्या महिलाओं को परेशान कर सकती है, वे है ब्लड क्लॉट्स। पीरियड डिले पिल्स के फ्रिक्वेंट इस्तेमाल से बॉडी में ब्लड क्लॉट कर जाते हैं, जो कि कई सीरियस मेडिकल कंडीशंस का कारण बन सकता है।

यह भी पढ़ें: Prolapsed uterus : पेनफुल सेक्स और कब्ज के कारण भी गर्भाशय योनि से बाहर निकल सकते हैं



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *