[ad_1]

शराब और बियर के शौकीनों के लिए हर बात पार्टी करने का एक जरिया है। साथ ही जब उन्हें बियर पीने से रोका जाता हैं तो वे एक ऐसा स्वास्थ्य तर्क दे देते हैं, जिसे अधिकतर लोग सच मानते है। उनका कहना होता है कि, ‘बियर पीने से तो पथरी नहीं होती और अगर पथरी पहले से ही हैं, तो वो नष्ट हो जाती हैं’। अगर अभी तक आप भी ऐसा ही कुछ मान रहे थे, तो आप अकेले नहीं हैं बल्कि हर तीसरे भारतीय की तरह ही हैं।

दरअसल, हाल ही में प्रिस्टीन नाम की एक हेल्थ केयर कंपनी के द्वारा किए गए सर्वे में यह सामने आया कि हर तीसरा भारतीय यही मानता है कि, बियर पीने से किडनी स्टोन यानी गुर्दे की पथरी खत्म हो जाती है।

जाने क्या होता है ‘किडनी स्टोन’। चित्र-अडोबीस्टॉक

क्या होती है गुर्दे की पथरी? (what is kidney stone)

गुर्दे की पथरी, जिसे आमतौर पर “किडनी स्टोन” भी कहा जाता है, एक सामान्य मेडिकल समस्या है, जिसमें गुर्दे में आवरण बन जाता है, जो छोटे-छोटे पत्थरों की रूप में होता है। ये पथरियां गुर्दे के अंदर की छोटी सी द्रवीय सबस्टेंस क्रिस्टलाइजेशन के परिणामस्वरूप बनती हैं।

आमतौर पर किडनी में कैल्शियम, यूरिक एसिड, या अन्य धातु एक साथ जम जाती है, जिसके कारण वो एक पत्थरनुमा आकार बना लेती है, जिसे किडनी स्टोन कहा जाता है। इसके साथ ही पथरी होने के अन्य कारणों में किडनी के साथी रोगों जैसे कि हाइपर्टेंशन (उच्च रक्तचाप) और डायबिटीज भी एक बड़ा खतरा पैदा कर सकते हैं और इनके कारण भी किडनी स्टोन हो सकता है।

वही, कुछ लोगों को कम पानी पीने की आदत होती है और पर्याप्त पानी पीने की कमी से, सही तरह से मूत्र नहीं बनता, जिसके कारण पथरी का खतरा बढ़ सकता है। वही, पथरी होना एक जेनेटिक बीमारी भी है, इसका मतलब यदि आपके परिवार में किसी को पहले से ही पथरी होती है, तो आपके लिए भी पथरी के होने का खतरा बढ़ जाता है।

अब समझिए पथरी होने के कारण? (causes of kidney stone)

डॉ,गर्ग ने बताया कि पथरी तब विकसित होती है जब शरीर में असंतुलन होता है, जिससे तमाम द्रव्यों का क्रिस्टलीकरण होता है और बाद में वे सख्त हो जाते हैं। गुर्दे की पथरी बनने का सटीक कारण अक्सर अज्ञात होता है, लेकिन कुछ कारक इसके जोखिम को कई गुना तक बढ़ा देते हैं।

1. डीहाइड्रेशन: अपर्याप्त पानी के सेवन से मूत्र गाढ़ा हो सकता है, जिससे पथरी बनने की संभावना बढ़ जाती है।

2. आहार: उच्च नमक, पशु प्रोटीन और ऑक्सालेट युक्त खाद्य पदार्थ (जैसे पालक, चॉकलेट, नट्स और कुछ फल) वाला आहार लेने से पथरी बनने में योगदान हो सकता है।

3. पारिवारिक इतिहास: यदि किसी व्यक्ति के पास गुर्दे की पथरी का पारिवारिक इतिहास है तो उसे गुर्दे की पथरी होने का खतरा अधिक हो सकता है।

4. कुछ चिकित्सीय स्थितियां: हाइपरकैल्सीयूरिया, सिस्टीनुरिया और हाइपरपैराथायरायडिज्म जैसी स्थितियां गुर्दे की पथरी के खतरे को बढ़ा सकती हैं।

5. मूत्र पथ संक्रमण: कुछ प्रकार के बैक्टीरिया ऐसे पदार्थ उत्पन्न कर सकते हैं जो पथरी के निर्माण को बढ़ावा देते हैं।

क्या बियर पीने से कम हो जाता है पथरी का खतरा? (Beer and kidney stone)

बियर पीने से पथरी कम करने वाले दावों पर अमेरिकन एडिक्शन सेंटर की एक रिपोर्ट बताती है कि , अभी तक ऐसा कोई भी सबूत नहीं मिला है जिससे यह सिद्ध हो कि बियर पीने से पथरी का खतरा कम हो जाता है या पथरी निकल जाती है।

इसके साथ ही इस रिपोर्ट में यह भी बताया गया कि पथरी के रोगियों को शराब पीने से और ज्यादा तकलीफों का सामना करना पड़ सकता है। ज्यादा शराब या बियर पीने से उन्हें किडनी फेलियर और हाई ब्लड प्रेशर जैसी समस्याएं हो सकतीं हैं।

पेट दर्द से राहत दिलाये काला नमक और भुना जीरा । चित्र : शटरस्टॉक
ज्यादा शराब या बियर पीने से किडनी फेलियर हो सकतीं हैं।। चित्र : शटरस्टॉक

इस मुद्दे पर हेल्थशॉट्स ने मैक्स सुपर स्पेशिएलिटी हॉस्पिटल देहरादून के कंसल्टेंट यूरोलॉजी और यूरो-ओन्को सर्जन डॉ.दीपक गर्ग से बात की। डॉ.गर्ग ने बताया कि आमतौर पर लोगों की यह धारणा रहती है कि बीयर पीने से गुर्दे की पथरी को रोका जा सकता है, लेकिन यह तथ्य पूरी तरह से एक मिथ है। उन्होंने कहा कि हालांकि इस बात के मात्र सीमित सबूत हैं कि किडनी की पथरी के खतरे को कम करने में बीयर के कुछ संभावित लाभ हो सकते हैं, लेकिन शरीर पर शराब के पड़ने वाले बुरे असर उससे कही ज्यादा होते हैं।

डॉ. गर्ग ने बताया कि बीयर सहित तमाम तरह की शराब एक मूत्रवर्धक है, जिसका अर्थ है कि यह मूत्र उत्पादन को बढ़ाता है और संभावित रूप से गुर्दे से पत्थर बनाने वाले पदार्थों को बाहर निकालने में मदद कर सकता है। लेकिन अधिक शराब के सेवन पर चेतवनी देते हुए डॉ गर्ग कहते हैं कि अत्यधिक शराब के सेवन से शरीर में डीहाइड्रेशन हो सकता है, जो वास्तव में गुर्दे की पथरी को बनाने के खतरे को बढ़ा सकता है।

कैसे दूर कर सकते हैं पथरी? (Treatment of kidney stone)

डॉ गर्ग बताते हैं कि एक बार बनने के बाद, गुर्दे की पथरी का आकार अलग-अलग हो सकता है, जो रेत के दाने जितने छोटे से लेकर गोल्फ की गेंद जितना बड़ा हो सकता है।

पथरी मूत्र पथ के माध्यम से फैल सकती है, जिससे अत्यधिक दर्द और परेशानी हो सकती है क्योंकि वे मूत्र के प्रवाह को अवरुद्ध कर देते हैं। गुर्दे की पथरी के उपचार के विकल्पों में दवाएं, अधिक तरल पदार्थ का सेवन, आहार में बदलाव और गंभीर मामलों में लिथोट्रिप्सी या सर्जिकल निष्कासन जैसी प्रक्रियाएं शामिल हो सकती हैं।

यह भी पढ़ें: क्या टमाटर और बैंगन के बीज बन सकते हैं पथरी का कारण? चलिये पता करते हैं

[ad_2]

Source link