नॉन वेजिटेरियन फूड्स के सेवन को वेट गेन से जोड़ा जाता है, परंतु फिर भी बहुत से लोग वेट लॉस डाइट में नॉन वेज फूड्स को शामिल करते हैं। हालांकि, सवाल यह है कि क्या सच में नॉन वेजिटेरियन फूड्स के सेवन से वेजिटेरियन फूड्स की तुलना में अधिक वेट गेन होता है? आज हम इसी बारे में बात करेंगे की आखिर नॉन वेजिटेरियन खाने वाले लोगों के वजन पर क्या प्रभाव पड़ता है (non veg food for weight gain)। यदि आप भी एक नॉन वेजिटेरियन हैं, तो आपको इस लेख को जरूर पढ़ना चाहिए।

न्यूट्रीशनिस्ट और हेल्थ टोटल की फाउंडर अंजली मुखर्जी ने नॉन वेजिटेरियन फूड्स और वेट गेन के कनेक्शन को लेकर कुछ जरूरी बातें बताई हैं। तो चलिए जानते हैं, आपके वजन पर क्या है नॉन वेजिटेरियन फूड्स का प्रभाव।

नॉन वेजिटेरियन फूड्स में मौजूद होता है अधिक फैट

यह पूरी तरह से सच है कि प्लांट बेस्ड फूड्स की तुलना में नॉन वेजिटेरियन फूड्स में अधिक मात्रा में फैट और कैलोरी पाई जाती है। परंतु आपका वजन कब और कितना बढ़ सकता है, यह पूरी तरह से आपके डाइट प्लान पर निर्भर करता है। नॉन वेजिटेरियन डाइट यानी की मीट प्रोडक्ट्स में अधिक मात्रा में सैचुरेटेड फैट पाया जाता है। जिससे कि हार्ट की बीमारी सहित डियाबिटीज का खतरा बढ़ जाता है, और व्यक्ति का लाइफस्पेन भी कम हो जाता है।

नेशनल लाइब्रेरी ऑफ़ मेडिसिन द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार 18 हफ्ते तक कुछ लोगों ने वेजीटेरियन तो कुछ लोगों ने नॉन वेजिटेरियन डाइट फॉलो किया। परिणामस्वरूप नॉन वेजिटेरियन डाइट फॉलो करने वाले व्यक्ति की तुलना में वेजीटेरियन डायट ले रहे लोगों का वजह अधिक कम हुआ था।

वजन पर क्या है नॉन वेजिटेरियन फूड्स का प्रभाव। चित्र : एडॉबीस्टॉक

लीन प्रोटीन है एक बेहतरीन विकल्प

एक्सपर्ट के अनुसार नॉन वेजिटेरियन ऑप्शन जैसे कि ग्रिल्ड फिश और क्लियर चिकन सूप को डाइट में शामिल करें। यह सभी लीन प्रोटीन का एक अच्छा स्रोत हैं और इनमें अनसैचुरेटेड फैट की बहुत कम मात्रा पाई जाती है। डाइट में इन्हें शामिल करने से न केवल वेट लॉस होगा, बल्कि ये तमाम अन्य स्वास्थ्य परेशानियों के खतरे को भी कम कर देते हैं।

यह भी पढ़ें : Salt Cravings: इन 5 कारणों से बढ़ जाती है नमकीन चीजें खाने की ललक, एक्सपर्ट बता रही हैं इसके लिए कुछ हेल्दी स्नैक्स आइडिया

जानें कौन-कौन से नॉन वेजीटेरियन फूड्स सेहत के लिए हो सकते हैं हानिकारक

यदि आप नॉनवेजिटेरियन हैं और एक हेल्दी डाइट मेंटेन करना चाहती हैं, तो आपको रेड मीट और ऑर्गन मीट से परहेज करना चाहिए, क्योंकि इनमें सैचुरेटेड फैट की बहुत अधिक मात्रा पाई जाती है। इसके अलावा प्रोसेस्ड, फ्राइड और कैंड मीट प्रोडक्ट से दूरी बनाए रखें, क्योंकि इन सभी में सैचुरेटेड फैट पाया जाता है। साथ ही साथ इन्हें बनाने में अन्य अनहेल्दी प्रोडक्ट्स का इस्तेमाल किया जाता है, जो वेट लॉस को बढ़ावा दे सकते हैं।

बैलेंस बनाए रखना है सबसे महत्वपूर्ण

यदि आप वेजीटेरियन डायट ले रही हैं, परंतु अपनी डाइट की गुणवत्ता का ध्यान नहीं रख रही हैं, तो ऐसा नहीं है कि आपको इसका कोई लाभ मिलेगा। रिफाइंड, प्रोसेस्ड फूड्स का अधिक सेवन या फिर अधिक मात्रा में डेयरी प्रोडक्ट्स लेना, रिफाइन शुगर, फ्राइड फूड्स सेहत के लिए बेहद नकारात्मक होते हैं और इससे आपका वजन तेजी से बढ़ सकता है। पोषक तत्वों से भरपूर हरि सब्जी और सलाद आदि को अवॉइड करना वेट गेन के साथ-साथ अन्य स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं का कारण बन सकते हैं।

processed meat ke nuksan
बेहद नकारात्मक होते हैं और इससे आपका वजन तेजी से बढ़ सकता है। चित्र: शटरस्‍टॉक

हेल्दी वेट लॉस के लिए अपनाएं अलग-अलग खाद्य विकल्प

यदि आप वेट लॉस करना चाहती हैं और सीमित खाद्य स्रोत पर निर्भर हो चुकी हैं, तो यह उचित नहीं है। शरीर को अलग-अलग प्रकार के पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है, इसलिए हर प्रकार के खाद्य स्रोत को डाइट में शामिल करें। अलग-अलग खाद्य स्रोत जोड़ने से आपको तमाम पोषक तत्वों की गुणवत्ता प्राप्त करने में मदद मिलेगी। जिससे न केवल वेट मैनेज होगा, बल्कि यह समग्र सेहत के लिए फायदेमंद साबित होगा।

यह भी पढ़ें : Basa Fish Benefits : अगर आप भी है मछली खाने के शौकीन हैं, तो जानिए एक ऐसी फिश के बारे में जो पोषक तत्वों का भंडार है



Source link