जब एक निषेचित अंडा गर्भाशय में प्रत्यारोपित तो हो जाता है लेकिन भ्रूण नहीं बनता है, तो इसे ब्लाइटेड डिंब या एनब्रायोनिक गर्भावस्था के रूप में जाना जाता है।अधिकांश गर्भपात इसी कारण होते हैं। 

पेट में नाल और भ्रूण की थैली बनती है, लेकिन खाली रहती है। कोई बढ़ता हुआ बच्चा नहीं बन पाता है। भले ही कोई भ्रूण न बने, फिर भी नाल मानव कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन (एचसीजी) का उत्पादन करती है। यही हॉर्मोन गर्भावस्था के लिए जरूरी होता है। रक्त और मूत्र के परीक्षण में देखने पर एचसीजी हॉर्मोन मिल सकता है, इसलिए ब्लाइटेड डिंब का परिणाम सकारात्मक गर्भावस्था परीक्षण हो सकता है, भले ही गर्भावस्था में भ्रूण न बना रहा हो।

जब एक महिला गर्भवती होती है, तो निषेचित अंडा गर्भाशय की दीवार से जुड़ जाता है। गर्भावस्था के लगभग पाँच से छह सप्ताह में, भ्रूण दिखाई देना चाहिए।इस समय, गर्भकालीन थैली – जहां भ्रूण विकसित होता है – लगभग 18 मिलीमीटर चौड़ी होती है। गर्भावस्था से संबंधित अन्य लक्षण, जैसे स्तनों में दर्द और मतली भी हो सकते हैं।

(और पढ़ें – प्रेगनेंसी में क्या खाना चाहिए)

 



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *