क्या आपने कभी यह जानने की कोशिश की है, कि ऐसा क्यों होता है? यदि नहीं तो आपको इस बारे में जानना चाहिए। यदि आपको इसके कारणों से जुड़ी उचित जानकारी होगी, तो आप उन फैक्टर्स को अवॉइड कर खाने के बाद होने वाले थकान को दूर कर सकती हैं।

खाना खाने के बाद ज्यादातर लोगों को थकान का अनुभव होता है बहुत से लोग सुस्त और शांत हो जाते हैं, साथ ही उन्हें नींद आने लगती है। यह व्यक्ति के नियमित दिनचर्या के कार्य को प्रभावित कर सकता है। क्या आपने कभी यह जानने की कोशिश की है, कि ऐसा क्यों होता है? यदि नहीं तो आपको इस बारे में जानना चाहिए। यदि आपको इसके कारणों से जुड़ी उचित जानकारी होगी, तो आप उन फैक्टर्स को अवॉइड कर खाने के बाद होने वाले थकान को दूर कर सकती हैं। हेल्थ शॉट्स ने खाने के बाद थकान (fatigue after consuming) होने के कारणों के बारे में जानने के लिए सर्टिफाइड इंटीग्रेटिव न्यूट्रिशन और हेल्थ कोच मल्लिका सिंह से बात की। तो चलिए जानते हैं, इस बारे में अधिक विस्तार से।


जाने क्यों होता है खाने के बाद शरीर को थकान का अनुभव (fatigue after consuming)

1. ओवरईटिंग

डाइजेशन के दौरान शरीर के अन्य भागों से ब्लड फ्लो डाइजेस्टिव ऑर्गन में डाइवर्ट होते हैं, ताकि खाद्य पदार्थों को ब्रेक कर उनके अवशोषण को बढ़ावा दे सके। ऐसे में यदि आप ओवरराइटिंग करती हैं या आवश्यकता से अधिक भोजन कर लेती हैं, तो टेंपरेरी रूप से शरीर में ऑक्सीजन और ऊर्जा के स्तर में कमी देखने को मिल सकती है। जिसकी वजह से खाने के बाद थकान महसूस होता है। इसीलिए हमेशा छोटे-छोटे मिल लेने चाहिए, भले ही आपको हर 2 से 3 घंटों पर खाना खाना पड़े।

डकार से बचाव के लिए ओवर इटिंग से बचें। चित्र शटरस्टॉक

2. ट्राइप्टोफैन, मेलाटोनिन और सेरोटोनिन का उत्पादन

ट्राइप्टोफैन एक प्रकार का अमीनो एसिड है, जो कुछ प्रकार के खाद्य पदार्थ जैसे की चिकन में पाया जाता है। वहीं शरीर ट्राइप्टोफैन का इस्तेमाल कर मेलाटोनिन और सेरोटोनिन हार्मोन का उत्पादन करती है। शरीर में मेलाटोनिन के बढ़ने से नींद आने लगता है, वहीं सेरोटोनिन नींद की गुणवत्ता को बढ़ावा देने में मदद करते हैं। हमेशा खाद्य पदार्थों को सीमित मात्रा में लेना चाहिए, ताकि शरीर में किसी तरह के हार्मोन का ओवर प्रोडक्शन न हो।


3. ब्लड में बढ़ जाता है शुगर का स्तर

हाई ब्लड शुगर और हाइपोग्लाइसीमिया डायबिटीज से जुड़े होते हैं। जब शरीर में अधिक मात्रा में शुगर बनना शुरू होता है, इस स्थिति में व्यक्ति को हाइपरग्लिकेमिया का सामना करना पड़ सकता है। वहीं यह स्थिति तब उत्पन्न होती है, जब बॉडी पर्याप्त इंसुलिन का प्रोडक्शन नहीं कर पाती। इंसुलिन ग्लूकोज जो शुगर को ऊर्जा में बदलकर शरीर में अवशोषित होने में मदद करते हैं।

यह भी पढ़ें

Low Cholesterol Diet : आपके हृदय स्वास्थ्य का ख्याल रख आपको लंबी उम्र देती है लो कोलेस्ट्रॉल डाइट

वहीं वे लोग जिन्हें डायबिटीज नहीं है एल, उन्हें भी हाई ब्लड शुगर लेवल का सामना करना पड़ सकता है। अत्यधिक मात्रा में भोजन करने से भी ब्लड शुगर लेवल बढ़ जाता है, जिसकी वजह से सिर दर्द और थकान, कमजोरी जैसी समस्याओं का सामना करना पड़ता है।

यदि आप अधिक मात्रा में कार्बोहाइड्रेट ले रही हैं, खासकर रिफाइंड और प्रोसेस्ड कार्बोहाइड्रेट, खाने के बाद आपके शरीर में ब्लड शुगर लेवल को बढ़ा देते हैं। जिसकी वजह से बॉडी को थकान महसूस होता है। इसलिए सीमित मात्रा में हेल्दी खाद्य पदार्थों का सेवन करें, ताकि ब्लड शुगर लेवल सामान्य रहे और आप खाने के बाद भी पूरी तरह एक्टिव रह सके।

omega 3 fatty acid mansik aur sharirik samasyaon ko door karne mei madadgar hai.
ओमेगा-3 फैटी एसिड मानसिक और शारीरिक समस्याओं को दूर करने में मददगार है। चित्र: शटरस्टॉक

4. न्यूट्रिएंट डिफिशिएंसी

विटामिन और मिनरल शरीर के लिए बेहद महत्वपूर्ण होते हैं। वहीं कुछ खास पोषक तत्व हैं, जैसे कि विटामिन बी, विटामिन सी, आयरन, मैग्नीशियम और जिंक शरीर को ऊर्जा के उत्पादन में मदद करते हैं। इनकी कमी से आपको थकान और सुस्ती महसूस हो सकती है।

इन पोषक तत्वों की कमी से शरीर में खाद्य पदार्थों को पचाना मुश्किल हो जाता है, और डाइजेशन में अधिक समय लगता है। शरीर को पाचन प्रक्रिया के लिए अधिक ऊर्जा की आवश्यकता होती है, जिसकी वजह से खाने के बाद बॉडी में ऊर्जा शक्ति की कमी महसूस हो सकती है।

5. शराब का सेवन

शराब सेंट्रल नर्वस सिस्टम डिप्रेसेंट के तौर पर काम करता है। इसका मतलब यह है कि यह ब्रेन एक्टिविटी को धीमा कर देता है। वहीं ये आपकी नींद को प्रभावित करता है और इससे आपको कमजोर, सुस्त और थकान का अनुभव होता रहता है। खाने के साथ शराब का सेवन करने से शरीर में कई प्रकार के नकारात्मक प्रभाव बढ़ जाते हैं। खासकर आपको अत्यधिक थकान और सुस्ती महसूस होता है।


जानें किस तरह खाने के बाद थकान और सुस्ती को कर सकते हैं अवॉयड

1. एक बार में छोटी मील लें

एक साथ अत्यधिक खाने या ओवर ईटिंग करने की जगह छोटा मिल लेना अधिक फायदेमंद रहेगा। कुछ-कुछ समय पर हल्का-फुल्का स्नेक्स लेती रहें, यह शरीर में ऊर्जा शक्ति को बनाए रखने में मदद करेगा।

यह भी पढ़ें: वजन बढ़ने का सबसे बड़ा कारण है इमोशनल ईटिंग, यहां हैं इसे कंट्रोल करने के 5 उपाय

2. नींद की गुणवत्ता को बढ़ाएं

यदि आपको खाने के बाद थकान महसूस होता है, तो हो सकता है आप उचित नींद नहीं ले रही हैं। ऐसे में रात को पर्याप्त नींद लेने का प्रयास करें। जो लोग 7 से 8 घंटे की उचित नींद लेते हैं, उनमें खाद्य पदार्थों को खाने के बाद ऊर्जा के स्तर में कमी देखने को नहीं मिलती।

aapki sehat ke liye faydemand hai chalna
नियमित रूप से 30 मिनट की वॉकिंग फिटनेस के लिए बढ़िया है। चित्र : शटरस्टॉक

3. खाने के बाद वॉक करें

यदि आप खाने के बाद कुछ देर टहलने की आदत बनती हैं, तो इससे आपको थकान का अनुभव नहीं होता। क्योंकि यह खाद्य पदार्थों की पचने की प्रक्रिया को आसान और तेज कर देते हैं, जिससे पाचन क्रिया को अधिक ऊर्जा की आवश्यकता नहीं होती और आपका शरीर सक्रिय रहता है।

4. खाने के साथ शराब को अवॉइड करें

बहुत से लोग खाना खाते-खाते शराब पीना पसंद करते हैं, जो खाने के बाद थकान का कारण बनता है। यदि आप खुद को पूरी तरह स्वस्थ रखना चाहती हैं, तो भूल कर भी अपने खाद्य पदार्थों के साथ शराब न लें।

यह भी पढ़ें: फ्रोजन फूड्स इस्तेमाल कर रहीं हैं, तो जान लीजिए उनकी डिफ्रॉस्टिंग और कुकिंग का सही तरीका



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *