आजकल, व्यस्त लाइफस्टाइल और काम के कारण कई कपल्स अपने माता-पिता से दूर रहते हैं, जिस कारण बच्चों को उनके दादा-दादी, नानी-नाना का रोज वाला प्यार नहीं मिल पाता है. छोटे बच्चों का अपने दादा-दादी के साथ अच्छा बॉन्डिंग होता है. दादा-दादी अच्छे अभिभावक और अच्छे दोस्त का रोल अच्छी तरह से निभाते हैं, लेकिन कभी-कभी किसी कारण से बच्चों को अपने दादा-दादी से दूर रहना पड़ता है. लेकिन बच्चे हर दिन अपने दादा-दादी से फोन में बात करते हैं और साथ ही वीडियो कॉल  में बात करते हैं, वही कुछ-कुछ त्यौहार में बच्चे अपने दादा-दादी के पास मिलने भी जाते हैं. चलिए जानते हैं बच्चों को पालने के दौरान दादा-दादी का समर्थन क्यों महत्वपूर्ण है.

रीति-रिवाज और संस्कृति 

दादा-दादी के साथ रहकर, बच्चे अपने परिवार, रीति-रिवाज़ और संस्कृति के बारे में बेहतर से जान पाते हैं. इसके दौरान, कभी-कभी बच्चों को वह कुछ बातें पता चलती हैं जिनके बारे में उनके माता-पिता अक्सर अनजान होते हैं. दादा-दादी के साथ, बच्चे अपने त्योहारों को मनाने के पीछे के कारण और तरीके को भी जानते हैं.

भविष्य के लिए अच्छा 

दादा-दादी के पास बच्चों की हर समस्या का हल जरूर होता है. उनके साथ रहकर, बच्चे मजेदारी के साथ अपनी समस्याओं का सामना करना भी सीखते हैं. जो उनके भविष्य के लिए अच्छा होता है.

नैतिक शिक्षा 

दादा-दादी बच्चों के लिए विश्वास, प्रेम और नैतिक शिक्षा के स्तम्भ की भूमिका निभाते हैं. दादा-दादी अक्सर बच्चों को अच्छी कहानियों के माध्यम से जीवन में कई महत्वपूर्ण बातें समझाते हैं. जो बच्चों के जीवन पर अच्छा प्रभाव डालता है.

आत्मनियंत्रण रखने की शिक्षा 

अधिकांश माता-पिता अपने बच्चों की हर इच्छा को तुरंत पूरी कर देते हैं. जिसके कारण आज के बच्चों में संयम की कमी दिखती है. इस तरह की स्थिति में, यह दादा-दादी हैं जो बच्चों को आत्मनियंत्रण रखने की शिक्षा देते हैं, जो भविष्य में मानसिक शांति के लिए बहुत महत्वपूर्ण है.

ये भी पढ़ें : इन कारणों से पेरेंट्स को इग्नोर करने लगते हैं बच्चे, समय रहते कर लें खुद में सुधार

.



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *