Paytm Share Worth: शुक्रवार को लगातार दूसरे दिन पेटीएम के स्टॉक में 20 फीसदी की गिरावट के साथ लोअर सर्किट लगा हुआ है. आज के ट्रेड में पेटीएम का शेयर 20 फीसदी की गिरावट के साथ 487.20 रुपये पर जा लुढ़का है. पिछले एक साल में पेटीएम के स्टॉक का ये सबसे निचला लेवल है. पिछले दो दिनों में पेटीएम के मार्केट कैपिटलाइजेशन में 2 बिलियन डॉलर की सेंध लगी है. 

पेटीएम पेमेंट बैंक के खिलाफ आरबीआई की कार्रवाई 

बुधवार 31 जनवरी 2024 को बैंकिंग सेक्टर के रेग्यूलेटर भारतीय रिजर्व बैंक ने फिनटेक कंपनी पेटीएम पेमेंट बैंक बार बार चेताने के बावजूद  रेग्यूलेटरी नियमों की अनदेखी करने और कम्पलॉयंस का पालन नहीं करने के चलते पेटीएम पेमेंट बैंक के कई सर्विसेज पर रोक लगाने का फैसला किया. आरबीआई का ये आदेश शेयर बाजार के बंद होने के बाद आया था. और इस फैसले के बाद लगातार दो कारोबारी सत्रों में पेटीएम के स्टॉक में गिरावट जारी है. 

आईपीओ लॉन्च के समय से ही पेटीएम ने किया निराश 

नवंबर 2021 में आईपीओ लॉन्च करने के बाद से ही पेटीएम ने अपने शेयरधारकों के बेहद निराश किया है. कंपनी ने 2150 रुपये के इश्यू प्राइस पर बाजार से पैसे जुटाये थे. स्टॉक की लिस्टिंग ही आईपीओ प्राइस के नीचे हुई थी बीते दो वर्षों में स्टॉक ने निवेशकों को बेहद निराश किया है. 22 नवंबर 2022 को स्टॉक 438 रुपये के निचले लेवल तक जा लुढ़का था. और ब्रोकरेज हाउस पेटीएम को जैसे डाउनग्रेड कर रहे हैं स्टॉक में और गिरावट आ सकती है. पेटीएम का शेयर 487 रुपये पर कारोबार कर रहा है. 2150 रुपये के आईपीओ प्राइस से स्टॉक करीब 78 फीसदी नीचे कारोबार कर रहा है. पेटीएम के स्टॉक प्राइस में गिरावट के बाद कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने स्टॉक प्राइस में गिरावट के बहाने मोदी सरकार पर निशाना साधा है. 

इश्यू प्राइस से 78 फीसदी नीचे लुढ़का स्टॉक 

निवेशकों को किस प्रकार पेटीएम के स्टॉक में निवेश पर नुकसान हो रहा इसे ऐसे समझ सकते हैं. मान लिजिए किसी निवेशक को पेटीएम के 2150 रुपये प्रति शेयर के प्राइस पर 2150 रुपये मिले थे जिसके लिए उसे 107500 रुपये खर्च करने पड़े होंगे. उसका वैल्यू दो साल बाद घटकर 24,350 रुपये रह गया है. यानि उसके पूंजी में 83,150 रुपये की चपत लग चुकी है. पिछले दो वर्षों में भारतीय शेयर बाजार ऐतिहासिक हाई पर जा पहुंचा पर पेटीएम का स्टॉक रसातल में जाता चला गया. 

ये भी पढ़ें 

Finances 2024: लोकलुभावन एलान नहीं करने पर वित्त मंत्री की सफाई, बोलीं – ये वोट ऑन अकाउंट है जुलाई में हम देखेंगे!



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *