Picture:INDIA TV PM Svanidhi Yojana

PM Svanidhi Yojana Hindi: मोदी सरकार द्वारा पिछले कुछ वर्षों में स्वरोजगार को बढ़ाने के लिए कई सारी योजना की शुरुआत की गई है। इन योजनाओं के तहत सरकार का उद्देश्य देश के युवाओं को स्वरोजगार करने में मदद करना है। ऐसी ही एक योजना है पीएम स्वनिधि योजना। आइए जानते हैं विस्तार सें…

पीएम स्वनिधि योजना 

पीएम स्वनिधि योजना केंद्र सरकार की स्कीम है। इस योजना के तहत रेहड़ी-पटरी लगाने वालों को सरकार गारंटी पर लोन की सुविधा दी जाती है। यानी आपको लोन लेने के लिए कुछ भी गिरवी रखने की आवश्यकता नहीं है। 

कितना मिलता है लोन?

पीएम स्वनिधि योजना के तहत रेहड़ी-पटरी लगाने वालों को सरकार द्वारा 50,000 रुपये का लोन दिया जाता है। ये लोन वर्किंग कैपिटल की जरूरतों को पूरा करने के लिए तीन अलग-अलग हिस्सों में दिया जाता है। इस योजना में आप शुरुआत में 10,000 रुपये का लोन लेते हैं और 12 महीने में उसे वापस करने पर आप 20,000 का लोन ले सकते हैं। इसके तीसरी बार में आप 50,000 का लोन ले सकते हैं। पीएम स्वनिधि योजना की वेबसाइट पर दी गई जानकारी के मुताबिक, अब तक 60 लाख लाभार्थी इस योजना का फायदा उठा चुके हैं। इसके तहत लोगों को 10,544 करोड़ रुपये जारी किए जा चुके हैं। 

ब्याज पर 7% सब्सिडी 

केंद्र सरकार द्वारा पीएम स्वनिधि योजना के तहत दिए गए लोन पर लगने वाली ब्याज पर 7 प्रतिशत की सब्सिडी दी जाती है। इसके साथ ही लोन ले चुका वेंडर अगर डिजिटल पेमेंट को अपनाता है तो 25 रुपये से अधिक के लेनदेन पर कैशबैक मिलता है। यह 100 एक महीने में 100 रुपये तक का हो सकता है। 

पीएम स्वनिधि योजना में कैसे करें आवेदन

  • पीएम स्वनिधि के तहत लोन आवेदन के लिए आपको किसी भी नजदीकी सरकारी बैंक जाना होगा। 
  • इसके आप पीएम स्वनिधि योजना में लोन का फॉर्म भरकर। जरूरी दस्तावेज जमा करें। 
  • दस्तावेज जमा कराने के साथ आपको बताना होगा कि आप क्या व्यापार करते हैं या किस तरह का व्यापार शुरू करने के लिए लोन ले रहे हैं। 
  • इसके बाद आपकी एप्लीकेशन रिव्यू होगी और अप्रूव होने पर आपको लोन दे दिया जाएगा। 

कौन-कौन से दस्तावेज लगेंगे? 

  • आधार 
  • बैंक पासबुक 
  • पासपोर्ट साइजफोटो 
  • ईमेल आईडी
  • मोबाइल नंबर 
  • पैन

Newest Enterprise Information





Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *