IMF Development Forecast 2022-23: वर्ल्ड बैंक के बाद अब इंटरनेशनल मॉनिटरी फंड ने भी भारत के आर्थिक विकास के अनुमान को घटा दिया है. आईएमएफ के मुताबिक 2022-23 वित्त वर्ष में भारत का जीडीपी 6.8 फीसदी रहने का अनुमान है जो आईएमएफ के पहले के अनुमान से 0.6 फीसदी कम है.  जुलाई 2022 में आईएमएफ ने जीडीपी 7.4 फीसदी रहने का अनुमान जताया था.  

आईएमएफ के मुताबिक 2022 में भारत का जीडीपी 6.8 फीसदी रह सकता है जो 0.6 फीसदी जुलाई के अनुमान से कम है. आईएमएफ का मानना है कि 2022 की दूसरी तिमाही अप्रैल से जून के बीच ग्रोथ में कमी के साथ डिमांड में कमी का ये असर है. इससे पहले जुलाई महीने में भी आईएमएफ ने जीडीपी अनुमान में 80 बेसिस प्वाइंट की कमी कर उसे 7.40 फीसदी कर दिया था. आईएमएफ से पहले वर्ल्ड बैंक, आरबीआई समेत कई रेटिंग एजेंसियों ने भारत का आर्थिक विकास दर के अनुमान को घटाया है. हालांकि आरबीआई का मानना है कि 2022-23 में 7 फीसदी जीडीपी रह सकता है. 

आईएमएफ के इकोनॉमिक काउंसलर  Pierre-Olivier Gourinchas ने कहा कि रूस के यूक्रेन पर हमले, महंगाई के चलते लोगं की रोजमर्रा की जरुरतें की चीजें महंगी होती जा रही है तो चीन में स्लोडाउन के कारण वैश्विक अर्थव्यवस्था को कई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है. उन्होंने कहा कि 2023 में एक तिहाई देशों का आर्थिक विकास दर नेगेटिव में रह सकता है. जो अमेरिका, यूरोपीय यूनियन और चीन में विकास की रफ्तार थम सकती है. उन्होंने कहा बुरा देखना अभी बाकी है और 2023 में मंदी जैसे हालात का सामना करना पड़ सकता है. 

ये भी पढ़ें 

Rekha Jhunjhunwala Portfolio: रेखा झुनझुनवाला के पोर्टफोलियो वाले इस शेयर ने दिया बंपर रिटर्न, क्या आपके पास है ये स्टॉक

5G Cellular Providers: हैंडसेट्स नहीं कर रहे 5जी सर्विस को सपोर्ट, DOT ने एप्पल सैमसंग समेत टेलीकॉम कंपनियों की बुलाई बैठक



Supply hyperlink

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *