[ad_1]

Trade Traded Fund: एक्सचेंज ट्रेडेड फंड शेयर बाजार में निवेश करने का शानदार जरिया बनता जा रहा है. ऐसे में मोतीलाल ओसवाल एसेट मैनेजमेंट कंपनी ने निवेशकों के लिए रियल एस्टेट और  स्मॉल कैप स्टॉक्स में एक्सपोजर दिलाने के लिए दोनों ही सेक्टर से जुड़ा एक्सचेंज ट्रेडेड फंड लॉन्च किया है. दोनों ही ईटीएफ ओपन-एंडेड फंड्स है और 21 मार्च 2024 को दोनों ईटीएफ की स्टॉक एक्सचेंज पर लिस्टिंग होगी. 

रियल्टी ईटीएफ में निवेश का अवसर 

मोतीलाल ओसवाल मैनेजमेंट कंपनी ने मोतीलाल ओसवाल निफ्टी रियल्टी ईटीएफ ( Motilal Oswal Nifty Realty ETF) और मोतीलाल ओसवाल निफ्टी स्मॉलकैप 250 ईटीएफ (Motilal Oswal Nifty Smallcap 250 ETF) के लॉन्चिंग का एलान किया है. मोतीलाल ओसवाल निफ्टी रियल्टी ईटीएफ ऐसी पहली ईटीएफ होगी जो निवेशकों को रियल एस्टेट स्टॉक्स में एक्सपोजर का अवसर प्रदान कर रहा है. निफ्टी का रियल्टी इंडेक्स ऐसे डिजाइन किया गया है जिससे रेसिडेंशियल और कमर्शियल प्रोजेक्ट्स में काम कर रहे रियल एस्टेट कंपनियों के प्रदर्शन का पता लगता है. इस इंडेक्स में देश की टॉप 10 दिग्गज रियल एस्टेट कंपनियां शामिल हैं जो निफ्टी 500 का भी हिस्सा है. 

स्मॉलकैप ईटीएफ में निवेश का मौका 

मोतीलाल ओसवाल निफ्टी स्मॉलकैप 250 ईटीएफ निवेशकों को शानदार ग्रोथ संभावना का प्रदर्शन करने वाले स्मॉलकैप स्टॉक्स में निवेश का अवसर प्रदान कर रहा है. निफ्टी का स्मॉलकैप 250 इंडेक्स को ऐसे डिजाइन किया गया जिससे टॉप 250 स्मॉलकैप कंपनियों के प्रदर्शन को आंका जाता है. ये स्मॉलकैप स्टॉक्स निफ्टी 500 में भी शामिल है. 

स्टॉक के समान खरीद सकते हैं ईटीएफ 

दोनों ही ईटीएफ ओपन-एंडेड फंड्स हैं और 21 मार्च 2024 को दोनों ही ईटीएफ की लिस्टिंग 21 मार्च 2024 को नेशनल स्टॉक एक्सचेंज पर होगी.  मोतीलाल ओसवाल निफ्टी रियल्टी ईटीएफ का एनएसई पर सिंबल MOREALTY और मोतीलाल ओसवाल निफ्टी स्मॉलकैप 250 ईटीएफ का एनएसई पर सिंबल MOSMALL250 रखा गया है. किसी स्टॉक के समान दोनों ही ईटीएफ की खरीदारी की जा सकती है. दोनों ही ईटीएफ के लॉन्च पर मोतीलाल ओसवाल एसेट मैनेजमेंट कंपनी के पैसिव फंड्स के प्रमुख प्रतीक ओसवाल ने कहा, मोतीलाल ओसवाल निफ्टी रियल्टी ईटीएफ और मोतीलाल ओसवाल निफ्टी स्मॉलकैप 250 ईटीएफ के साथ हम इन दोनों इंवेस्टमेंट कैटगरी की संभावनाओं ओर अवसरों को अनलॉक करने के लिए तैयार है. उन्होंने कहा, हमारा मानना है कि इन सेक्टर्स में अपार संभावनाएं और बड़े निवेश के अवसर हैं. 

ये भी पढ़ें

Central Banks Technique: फेडरल रिजर्व से बैंक ऑफ जापान, बैंक ऑफ चाइना तक, समझें सेंट्रल बैंकों की रणनीति

[ad_2]

Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *