Financial institution Of England Hike Curiosity Charges: 24 घंटे के भीतर अमेरिकी सेंट्रल बैंक फेडरल रिजर्व के बाद बैंक ऑफ इंग्लैंड ने कर्ज महंगा कर दिया है. बैंक ऑफ इंग्लैंड ने महंगाई पर नकेल कसने के लिए ब्याज दरों में बढ़ोतरी करने का फैसला किया है. बैंक ऑफ इंग्लैंड ने ब्याज दरों में 0.25 फीसदी की बढ़ोतरी कर उसे अब 4.25 फीसदी कर दिया है. बैंक ऑफ इंग्लैंड का कहना है कि पहले के अनुमानों के मुकाबले पहले महंगाई से लोगों को राहत मिल सकती है. 

बैंक ऑफ इंग्लैंड अर्थव्यवस्था के बेहतर आउटलुक की उम्मीद जाहिर करते हुए कहा कि आर्थिक विकास में तेजी आएगी. बैंक ऑफ इंग्लैंड ने 7-2 के आधार पर एक चौथाई फीसदी ब्याज दरें बढ़ाने के के पक्ष में मतदान किया जिसके बाद ब्याज दर 4.25 फीसदी हो चुका है. बैंक ऑफ इंग्लैंड की मॉनिटरी पॉलिसी कमिटी ने कोरोना महामारी और रूस के यूक्रेन पर हमले के बाद से 11वीं बार लगातार ब्याज दरों में बढ़ोतरी की है. इससे पहले बुधवार को अमेरिका के फेडरल रिजर्व ने भी महंगाई पर नकेल कसने के लिए ब्याज दरों में एक चौथाई फीसदी की बढ़ोतरी की है. 

ब्रिटेन में चार महीने में पहली बार महंगाई दर में बढ़ोतरी आई है जिसके बाद बैंक ऑफ इंग्लैंड ने ब्याज दरें बढ़ाने का निर्णय लिया है. फरवरी में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (Client Value Index) बढ़कर 10.4 फीसदी तक पहुंच गया. पिछले महीने यह 10.1 फीसदी पर था. एक्सपर्ट्स ने यह  फरवरी के महीने में ब्रिटेन की महंगाई दर 9.9 फीसदी रहने की उम्मीद जताई थी. ऐसे में यह आंकड़ा उम्मीद से कहीं ज्यादा है.

क्या करेगा आरबीआई? 

दुनिया के बड़े सेंट्रल बैंक मॉनिटरी पॉलिसी की बैठक में ब्याज दरों में बढ़ोतरी कर रहे हैं. तो अब माना जा रहा है कि इस आरबीआई भी पॉलिसी रेट्स में बदलाव कर सकता है. 3 से 6 अप्रैल 2023 तक आरबीआई की मॉनिटरी पॉलिसी की बैठक होने वाली है. 6 अप्रैल को आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास मॉनिटरी पॉलिसी कमिटी के फैसलों के एलान करेंगे. जिसमें माना जा रहा है कि आरबीआई रेपो रेट में  बढ़ोतरी कर सकता है.

ये भी पढ़ें 

Hindenberg Analysis: अब हिंडनबर्ग ने जैक डोर्सी के नेतृत्व वाली पेमेंट फर्म Block Inc के शेयरों को किया शॉर्ट, 18 फीसदी गिरा स्टॉक



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *