India GDP: ग्लोबल रेटिंग एजेंसी फिच (Fitch) ने भारत की रेटिंग बरकरार रखी है. फिच का अनुमान है कि भारतीय अर्थव्यवस्था की वृद्धि साल 2024 में संतुलित रहेगी. फिच ने मंगलवार को कहा कि भारत अगले कुछ सालों तक दुनिया की सबसे तेज गति से बढ़ती हुई अर्थव्यस्था बना रहेगा. रेटिंग एजेंसी ने भारत के लिए ‘बीबीबी -‘ (BBB-) की रेटिंग बरकरार रखी है. साथ ही फिच ने भारतीय अर्थव्यवस्था के वित्त वर्ष 2024 में 6.9 फीसदी की दर से बढ़ने का अनुमान भी जताया है. 

पिछले अनुमान से बहुत बेहतर है जीडीपी की स्थिति 

रेटिंग एजेंसी फिच ने भारत को लेकर कहा है कि देश की अर्थव्यवस्था स्थिर रहेगी. भारत की लॉन्ग टर्म फॉरेन करेंसी आईडीआर (Issuer Default Ranking) ‘बीबीबी -‘ रहेगी. साथ ही उम्मीद जताई कि कई सालों तक देश की इकोनॉमी प्रगति पर रहेगी. एजेंसी के अनुसार, वित्त वर्ष 2024 के बाद राजकोषीय पथ पर कम निश्चितता और आर्थिक विकास और समेकन के बीच समझौता अधिक तीव्र हो सकता है. भारत की जीडीपी के लिए चालू वित्त वर्ष एजेंसी ने 6.9 फीसदी का अनुमान लगाते हुए कहा कि यह हमारे द्वारा मई 2023 में किए गए अनुमान 6 फीसदी से काफी ऊपर है. वित्त वर्ष 2025 में जीडीपी के लिए रेटिंग एजेंसी ने 6.5 फीसदी का अनुमान लगाया था.

देश में प्राइवेट इनवेस्टमेंट की कोई कमी नहीं रहेगी

निवेश के मोर्चे पर फिच ने कहा कि देश में प्राइवेट इनवेस्टमेंट की कोई कमी नहीं रहेगी. आर्थिक वृद्धि में निवेश एक अहम रोल निभाने जा रहा है. भारत में प्राइवेट इनवेस्टमेंट धीरे-धीरे बढ़ता जाएगा. घरेलू बचत का आंकड़ा कम होने की वजह से खपत में भी सुधार आएगा.

महिलाओं के लिए रोजगार पैदा करना बेहद जरूरी 

फिच ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि बैंकों की मजबूत स्थिति और कॉरपोरेट बैलेंस शीट में सुधार से निवेश के लिए सकारात्मक माहौल बना रहेगा. हालांकि, फिच ने लेबर मार्केट को लेकर चिंता भी जताई है. रेटिंग एजेंसी का कहना है कि महिलाओं की भागीदारी बढ़ाया जाना बेहद जरूरी है. ये महिलाओं के रोजगार के लिए सकारात्मक कदम नहीं उठाए गए तो आउटलुक पर नकारत्मक प्रभाव भी पड़ सकता है. 

महंगाई में आ सकती है और कमी 

रेटिंग एजेंसी के मुताबिक, देश में महंगाई का आंकड़ा थमा हुआ है. हमारा अनुमान है कि महंगाई वित्त वर्ष 2024 के अंत तक घटकर 4.7 फीसदी रह जाएगी, जो कि दिसंबर, 2023 में 5.7 फीसदी रही थी. इसके अलावा फिच ने अनुमान जताया है कि रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया पॉलिसी रेट में 75 बेसिस प्वॉइंट की कटौती कर सकती है.

ये भी पढ़ें 

Demat Accounts: दिसंबर में खुले रिकॉर्डतोड़ डीमैट अकॉउंट, 14 करोड़ को छूने वाला है आंकड़ा 



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *