On-line Monetary Fraud: बढ़ते ऑनलाइन फाइनेंशियल फ्रॉड्स को देखते हुए वित्तीय मामलों के सचिव ने 12 संगठनों के स्टेकहोल्डर्स के साथ बड़ी बैठक की है. सरकार ने बताया कि फाइनेंशियल फ्रॉड के मामलों से जुड़े 1.4 लाख मोबाइल हैंडसेट्स टेलीकॉम विभाग ने ब्लॉक किए हैं. सरकार ने बैंकों और वित्तीय संस्थानों से कमर्शियल प्रमोशनल कॉलों के 10 डिजिट के नंबर की जगह 6 डिजिट के सीरीज वाले नंबर को लॉन्च करने को कहा है.   

फाइनेंशियल सर्विसेज सेक्टर और ऑनलाइन फाइनेंशियल फ्रॉड को रोकने के लिए हुई इस बैठक में 28 नवंबर 2023 को हुई पहली बैठक के बाद की गई तैयारियों की समीक्षा की गई. इस बैठक में फाइनेंशियल सेक्टर में सायबर सिक्योरिटी, डिजिटल पेमेंट फ्रॉड्स के बढ़ते ट्रेंड और उससे निपटने की तैयारियों पर चर्चा हुई.  

बैठक में बताया गया कि दूरसंचार विभाग ने अस्त्र के नाम से एआई/एमएल बेस्ड इंजन तैयार किया है जो ऐसे मोबाइल कनेक्शन का पता लगा सकेगा जो फेक और फर्जी डॉक्यूमेंट के जरिए हासिल किया गया है. ऐसे 1.40 मोबाइल हैंडसेट्स को ब्लॉक किया गया है जो डिस्कनेक्ट किए गए कनेक्शन से जुड़े थे या सायबर क्राइम या फ्रॉड से जुड़े थे. सरकार ने बैंकों और वित्तीय संस्थानों से कमर्शियल प्रमोशनल कॉलों के 10 डिजिट नवंबर की जगह 6 डिजिट के सीरीज वाले नंबर को लॉन्च करने को कहा है. साथ ही वित्तीय संस्थानों से जागरुरता अभियान भी चलाने को कहा गया है.   

दूरसंचार विभाग ने 35 लाख प्रिंसिपल एंटिटी का पता लगाया है जो बल्क एसएमएस भेजते हैं. इनमें से 19,776 एंटिटी ऐसे हैं जो फर्जी एसएमएस भेजा करते थे उन्हें ब्लैकलिस्ट कर ब्लॉक किया गया है. साथ ही 30,700 एसएमएस हेडर्स और 1,95,766 एसएमएस टेमप्लेट को डिस्कनेक्ट किया गया है. फाइनेंशियल फ्रॉड में लिप्त 500 लोगों को गिरफ्तार किया गया साथ ही 3.08 लाख सिम और 50,000 IMEI को प्रतिबिंब पोर्टल के जरिए अप्रैल 2023 के बाद से ब्लॉक किया जा चुका है.  

नवंबर में सरकार ने बताया था कि डिजिटल इंटेलीजेंस प्लेटफॉर्म के जरिए रिपोर्ट किए गए ऐसे 70 लाख मोबाइल कनेक्शन को डिस्कनेक्ट किया गया है जो सायबर क्राइम और फ्राइनेंशियल फ्रॉड में शामिल थे. साथ ही 900 करोड़ रुपये के रकम को फ्रॉड से बचाया जा सका जिससे 3.5 लाख लोगों को लाभ हुआ.  

ये भी पढ़ें 

EPFO ने पेटीएम पेमेंट्स बैंक से जुड़े बैंक अकाउंट में क्लेम सेटल करने पर लगाई रोक, 23 फरवरी से फैसला लागू



Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *