Picture:FILE Funding

लंबे समय बाद जब शेयर मार्केट में ब्रेकआउट आता है तो ट्रेडर्स और इन्वेस्टर्स दोनों अपनी सीट बेल्ट बांध लेते हैं, अधिकतर नए ट्रेडर्स हर उछाल पर पैसे लगाते हैं उनमें 99% लोग अपने पैसे गवां देते हैं लेकिन इन्वेस्टर्स हर बड़ी गिरावट पर पैसे लगाते हैं और लॉन्ग टर्म में पैसे बना लेते हैं।

अब समय आ चुका है जब नए निवेशक शेयर मार्केट की हर अच्छी गिरावट पर अपने mutual fund (index fund) में पैसे लगा सकते हैं। वो इसके लिए तैयार रहें क्योंकि करीब साल भर तक शेयर बाज़ार ने लोअर low बनाते हुए अच्छी रिकवरी दिखाई है और अपने पुराने हाई को क्रॉस कर दिया है। यानी अब उसकी तैयारी एक नए हाई बनाने की है, जो अगले 6 से 8 महीने में देखने को मिल सकती है।

क्या कहता है निफ़्टी-50 का इतिहास ?

निफ़्टी-50 और सेंसेक्स शेयर बाज़ार में दो इंडेक्स हैं। मैं निफ़्टी-50 को फॉलो करता हूं, इसलिए इसी का उदाहरण देता हूं। जब जब निफ़्टी ने अपने पुराने हाई को काटा है तब तब उसने एक नया हाई बनाया है। बस एक बात का ध्यान रखिएगा कि कभी भी नया हाई बहुत तेज़ी से नहीं बनता। ऊपर नीचे गिरते संभलते ये नए हाई तक जाता है। अब नया हाई क्या होगा ये कोई नहीं बता सकता। कितने दिन या महीने में बनेगा ये भी कोई नहीं बता सकता, बस कयास लगा सकता है लेकिन ये नया हाई बनेगा जरूर, ये निफ़्टी-50 के मौजूदा चार्ट ने तय कर दिया है।

चार्ट में दिख रहे ‘अच्छे’ संकेत

हम ऐसा इसलिए कह रहे हैं क्योंकि अक्टूबर 2021 को निफ़्टी-50 ने अपना हाई बनाया था, यानी 18300 के लेवल को पार किया और करीब 8 महीने बाज़ार गिरता रहा। एक समय ऐसा भी आया कि निफ़्टी जून में 15,400 तक गिर गया। और फिर वहां से शार्प रिकवरी लेते  हुए इस महीने यानी नवंबर 2022 में अपने पुराने हाई को काट चुका है, यानी अपने earlier excessive को पार कर चुका है। निफ्टी-50 के चार्ट में ब्रेकआउट हुआ है। यानी अब ये संकेत है कि  आप निफ़्टी-50 की हर अच्छी  गिरावट पर बाज़ार में पैसे लगाएं। अच्छी गिरावट का मतलब ढेड़ से 2 फ़ीसदी या उससे भी ज्यादा की गिरावट होती है। नए निवेशक सीधे बाज़ार में न कूदकर mutual fund के जरिये पैसे लगाएं।

इस समय SIP करें या Lumpsum ?

साधारण भाषा में SIP का मतलब ये है कि हर महीने आपके एकाउंट से एक निश्चित राशि एक फिक्स तारीख को निकलेगी और आपके द्वारा चुने गए mutual fund में ऑटोमेटिक जमा हो जाएगी। इसके लिए आपको हर महीने बैंक के चक्कर नहीं लगाना। और दूसरी तरफ आप lumpsum में अपने हिसाब से पैसे लगाते हैं। अभी जो समय है ये lumpsum का है। क्योंकि निफ़्टी-50 के ब्रेकआउट होने के बाद ये तो तय है कि मार्केट कुछ महीने या दिन बाद नया हाई बनाएगा। ऐसे में गिरावट के समय आप पैसे लगाकर नीचे के लेवल पर अच्छा खासा इन्वेस्टमेंट कर सकते हैं और भविष्य में बड़ी रकम बना सकते हैं।

Newest Enterprise Information





Supply hyperlink

By admin

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *