Picture:AP Adani Group

अमेरिकी सरकार की ओर से अडानी ग्रुप पर हिंडनबर्ग के आरोपों को लेकर चल रही जांच पूरी हो गई है। इस जांच में हिंडनबर्ग रिपोर्ट में गौतम अडानी पर लगाए गए फ्रॉड के आरोपों को गलत पाया गया है। बता दें, चीन के प्रभाव को श्रीलंका में कम करने के लिए अडानी ग्रुप कोलंबो में एक पोर्ट टर्मिनल विकसित कर रहा है, जिसे अमेरिकी सरकार का समर्थन मिला है। इसके लिए यूएसए द्वारा अडानी ग्रुप को 553 मिलियन (भारतीय करेंसी में करीब 4500 करोड़ रुपये) का लोन दिया जा रहा है। 

समाचार एजेंसी ब्लूमबर्ग के मुताबिक, अमेरिकी अधिकारी की ओर से कहा गया कि अमेरिकी सरकार की जांच में हिंडनबर्ग द्वारा अरबपति कारोबारी गौतम अडानी पर लगाए गए आरोप सही नहीं पाए गए हैं। इंटरनेशनल डेवलपमेंट फाइनेंस कॉर्प द्वारा ये जांच पूरी की गई है। अमेरिकी एजेंसी भारतीय कंपनी पर निगरानी अभी भी जारी रखेगी। सरकार अनजाने में किसी वित्तीय हेरफेर, अनुचित व्यवहार, या अन्य का समर्थन नहीं करती है। 

100 अरब डॉलर हुआ था नुकसान

शॉर्ट सेलर फर्म हिंडनबर्ग की ओर से इस वर्ष की शुरुआत में अडानी ग्रुप के खिलाफ कंपनियों के बीच फंड्स की हेराफेरी के आरोप लगाए थे। इस कारण से ग्रुप की सभी कंपनियों के शेयरों की कीमतें तेजी से नीचे आ गई थी और अडानी ग्रुप को करीब 100 अरब डॉलर का नुकसान हुआ था। 

चीन के लिए चुनौती बना अडानी का ये प्रोजेक्ट 

अडानी की ओर से जीती गई श्रीलंका टर्मिनल प्रोजेक्ट को अमेरिकी सरकारी की ओर से समर्थन दिए जाने का प्रमुख कारण दक्षिण एशियाई देश में चीन का बढ़ता प्रभाव है। वन बेल्ट वन रोड प्रोजेक्ट के तहत श्रीलंका को शामिल किए जाने के कारण चीन का वहां काफी प्रभाव देखने को मिला है। 

अडानी ग्रुप के शेयरों में तेजी 

इस खबर के बाद अडानी ग्रुप के शेयरों में जबदस्त तेजी देखने को मिल रही है। सुबह 11 बजे तक अडानी एंटरप्राइजेज 9.23 प्रतिशत, अडानी पोर्ट  9.01 प्रतिशत, अडानी ग्रीन 17.18 प्रतिशत और अडानी टोटल गैस में 8.20 प्रतिशत की तेजी देखने को मिली है। 

Newest Enterprise Information





Supply hyperlink

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *